मुंबई । देश का पूर्वी हिस्सा चक्रवाती तूफान अम्फान से बुरी तरह प्रभावित हुए अभी कुछ ही दिन बीते हैं कि अब एक नया चक्रवात निसर्ग पश्चिमी तट पर अरब सागर के ऊपर बनना शुरू हो गया है । यह तूफान तीन जून तक महाराष्ट्र जौर गुजरात के कुछ हिस्सों से टकरा सकता है। जिसकी अत्‍याधिक संभावना को देखते हुए इन दोनों राज्यों के लिए मौसम विभाग ने ‘यलो’ अलर्ट जारी किया है।

उल्‍लेखनीय है कि केंद्रीय गृमंत्री अमित शाह ने चक्रवात निसर्ग को लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे तथा दादरा एवं नगर हवेली और दमन एवं दीव के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल के साथ वीडियो कॉफ्रेंस के जरिए सोमवार को एक बैठक की थी। वहीं, इसके पहले शाह ने अरब सागर के ऊपर बन रहे चक्रवात निसर्ग से निपटने की तैयारियों और स्थिति का जायजा लेने के लिए एक बैठक की थी।

दूसरी ओर आईएमडी ने उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात तट के लिए एक ‘यलो’ चेतावनी जारी की है । आईएमडी ने आगाह किया कि चक्रवाती तूफान निसर्ग मुंबई सहित महाराष्ट्र के तटीय जिलों को गुजरात और अन्य पड़ोसी राज्यों से अधिक प्रभावित करेगा। आईएमडी ने कहा कि अरब सागर में डिप्रेशन तीव्र होकर एक गंभीर चक्रवाती तूफान निसर्ग में परिवर्तित होने वाला है और तीन जून को रायगढ़ जिले में हरिहरेश्वर और दमन के बीच उत्तर महाराष्ट्र और गुजरात तटों को पार करेगा।

आईएमडी ने सूचित किया है कि दक्षिण पूर्व और उससे लगे पूर्व मध्य अरब सागर और लक्षद्वीप के ऊपर उल्लेखनीय दर्जे का निम्न दबाव का क्षेत्र एक डिप्रेशन में बदल गया है और इस बात की पूरी संभावना है कि यह अगले 12 घंटों में एक गहरे डिप्रेशन में बदल जाएगा और उसके बाद के 24 घंटों के दौरान और तीव्र होकर पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर एक चक्रवाती तूफान में परिवर्तित हो जाएगा।

वहीं, तूफान से लड़ने के लिए एनडीआरएफ ने गुजरात में पहले ही 13 टीमें तैनात कर दी है, जिनमें से दो टीमों को रिजर्व रखा गया है. इसके अलावा महाराष्ट्र में 16 टीमें तैनात की गई हैं, जिनमें से सात टीमों को रिजर्व रखा गया है। जबकि एक-एक टीम दमन एवं दीव और दादरा एवं नगर हवेली में तैनात की गई है। निचले तटीय इलाकों से लोगों को लगातार खाली कराया जा रहा है। इस कार्य में एनडीआरएफ राज्य सरकारों की फरसक मदद कर रहा है।