Madhya Pradesh Tourism

Home » » मौसम विभाग ने मानसून को लेकर दी यह राहत भरी खबर, जरूर पढ़ें

मौसम विभाग ने मानसून को लेकर दी यह राहत भरी खबर, जरूर पढ़ें

नई दिल्‍ली। तेज गर्मी से झुलसते देशवासियों को मौसम विभाग ने राहतभरी खबर दी है। मौसम विभाग के अनुसार इस साल जून से सितंबर तक रहने वाला दक्षिण पश्‍चिम मानसून सामान्‍य रहेगा। विभाग के पूर्वानुमान में बताया कि जून से सितंबर तक के मानसून महीने में पूरे देश में औसतन बारिश का सामान्‍य दर यानि 96 फीसद होगा।
भारत में इस साल मानसून के औसत रहने के संभावना जताई गई हैं। हालांकि इससे एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के कृषि उत्पादन और आर्थिक विकास दर पर इसका कोई विपरीत प्रभाव नहीं पड़ेगा। भारतीय मौसम विभाग ने शुक्रवार को बयान जारी करते हुए कहा है कि मानसूनी वर्षा का लंबी अवधि का औसत (एलपीए) 96 फीसद रहने की उम्मीद है। सरकारी मौसम विभाग का कहना है कि मानसून सामान्य या औसत रहेगा जोकि 96 फीसद और 104 फीसद है।
पिछले 50 साल में चार महीने के इस मौसम में औसत बारिश 89 सेंटीमीटर होती रही है। जुलाई में देश में 95 फीसद वर्षा होगी और अगस्त में मानसूनी बारिश 99 फीसद हो सकती है। गौरतलब है कि भारत में मानसून के मौसम में सालाना 70 फीसद बारिश होती है जोकि एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में कृषि क्षेत्र की सफलता का कारण है।
चूंकि देश में आधा कृषि क्षेत्र अभी भी सिंचाई की नियमित व्यवस्था से अछूता है। लिहाजा वह इलाके पूरी तरह से मानसूनी बारिश पर निर्भर रहते हैं। गौरतलब है कि कुछ दिनों पूर्व ही सरकारी और निजी मौसम एजेंसियों ने घोषणा की थी कि मानसून निर्धारित समय से कुछ दिन लेट चल रहा है। प्रायः एक जून को मानसून केरल की तटीय सीमा को पार कर लेता है। लेकिन इस बार एक हफ्ते की देरी की आशंका है
क्षेत्रीय आधार पर देखें तो मौसम विभाग के अनुसार, पश्चिमोत्तर भारत में मानसून की अवधि में 94 फीसद बारिश होने के आसार हैं जबकि मध्य भारत में इसके 100 फीसद रहने की संभावना जताई गई है। वहीं पूर्वोत्तर भारत में मानसून के 91 फीसद बरसने की संभावना जताई जा रही है। दक्षिण के क्षेत्रों में यह 91 फीसद रह सकता है।
मौसम विभाग के मुताबिक- मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, चंडीगढ़, दिल्ली और राजस्थान में लू और भीषण गर्मी जारी है। पूर्वानुमान के अनुसार इन हिस्सों में मौसम की यह स्थिति अभी अगले 48 घंटों तक बनी रहेगी।
इससे पहले मौसम विभाग ने दिल्‍ली के लिए ‘रेड कलर’ की चेतावनी जारी कर तापमान में और इजाफे की चेतावनी दी है। पूर्वानुमान में मौसम विभाग ने कहा कि तापमान 45 डिग्री तक जा सकता है।
मौसम विभाग के चार ‘कलर कोड’ मैसेज हैं। ये कलर हैं- green, yellow, amber and red- Green। रेड का अर्थ भीषण गर्मी से है। गुरुवार को मौसम विभाग द्वारा 46.8 डिग्री तापमान रिकार्ड किया गया जो पिछले पांच सालों में सबसे ज्यादा था
झारखंड में भीषण गर्मी
झारखंड में इन दिनों गर्मी चरम पर है। तापमान में बढ़ोतरी की वजह से लू चल रही है। लू से दुमका जिले के सरैयाहाट में एक 50 वर्षीय अधेड़ की मौत हो गई है। पलामू, गढ़वा जिले में पारा 46 डिग्री सेल्सियस को पार कर रहा है। गुरुवार को पलामू का तापमान 46.2 व गढ़वा का तापमान 46 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। इधर, राजधानी रांची का तापमान लगातार दूसरे दिन भी 41.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।
इसके साथ गुरुवार की शाम प्रदेश के कुछ हिस्सों बारिश भी हुई है। पूर्वी सिंहभूम में बारिश के साथ आंधी आई। घाटशिला में वज्रपात की चपेट में आने से बड़ाजुड़ी निवासी दुर्गा सोरेन (75) की मौत हो गई। रांची में मौसम विज्ञानी आरएस शर्मा ने पूर्वानुमान के आधार पर बाताया है कि शुक्रवार को रांची व आसपास के क्षेत्रों में आंशिक बादल छाये रहेंगे। जबकि एक से तीन जून तक गरज के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है। इससे गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद है।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger