Madhya Pradesh Tourism

Home » » सियाचिन दौरे पर रवाना हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, लेंगे तैयारियों के जायजा

सियाचिन दौरे पर रवाना हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, लेंगे तैयारियों के जायजा

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री के तौर पर पदभार संभालने के बाद अपने पहले दौरे पर राजनाथ सिंह सियाचिन ग्लेशियर रवाना हो चुके हैं। दुनिया के सबसे खतरनाक माने जाने वाले इस युद्ध क्षेत्र में वह 12 हजार फीट की ऊंचाई पर सीमा की रक्षा कर रहे जवानों से मिलेंगे। सूत्रों ने बताया कि सिंह के साथ सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत व रक्षा मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी होंगे। वे लेह में सेना की 14वीं कोर तथा श्रीनगर में 15वीं कोर के मुख्यालयों में भी जाएंगे।
श्रीनगर में उत्तरी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह और 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी उन्हें पाकिस्तानी सीमा की सुरक्षा स्थितियों तथा आतंकवाद निरोधक अभियान के बारे में बताएंगे। सिंह सुबह सबसे पहले लद्दाख में अधिक ऊंचाई पर स्थित थोइस हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे, जहां से एक ऑपरेशनल बेस और फिर सियाचिन ग्लेशियर जाएंगे। वहां वह सेना के फील्ड कमांडरों और सैनिकों के साथ बातचीत करेंगे। वह सियाचिन वार मेमोरियल भी जाएंगे।
रक्षा मंत्री सोमवार शाम को नई दिल्ली लौट सकते हैं। कोराकोरम रेंज में स्थित सियाचिन ग्लेशियर दुनिया का सबसे ऊंचा सैन्य क्षेत्र है, जहां जवानों को अत्यधिक सर्दी और तेज हवाओं का सामना करना पड़ता है। यहां तापमान शून्य से 60 डिग्री सेल्सियस नीचे तक चला जाता है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले दस साल में दुनिया के इस सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र में सेना ने 163 जवान गंवाए हैं।
भारत और पाकिस्तान ने सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इस ग्लेशियर पर 1984 में सैनिकों की तैनाती शुरू की थी।सेना की 14वीं कोर चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तथा पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा (एलओसी) की सुरक्षा करती है। जबकि श्रीनगर स्थित 15वीं कोर मुख्यतः कश्मीर घाटी में आतंक विरोधी अभियान चलाती है।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger