Madhya Pradesh Tourism

Home » » ओडिशा के अलावा इन राज्यों पर भी होगा तूफान का असर, आप भी रहें संभलकर

ओडिशा के अलावा इन राज्यों पर भी होगा तूफान का असर, आप भी रहें संभलकर

नई दिल्ली। भीषण चक्रवाती तूफान फोनी शुक्रवार को ओडिशा के पुरी में दस्तक देने जा रहा है। लोगों को इलाके से निकालकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया जा रहा है। एनडीआरएफ की 81 टीमों को तैनात किया गया है और साथ ही फोनी के क्षेत्र से गुजरने वाली 283 ट्रेनों को रद कर दिया गया है। मौसम विभाग के अनुसार, फोनी तूफान पुरी, भुवनेश्वर, बालासोर, कोलकाता, बांग्लादेश होता हुआ आसाम में पहुंचेगा।
बताया जा रहा है कि पुरी में तूफान के टकराने के समय हवाओं की रफ्तार 170 से 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हैं, जो 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार तक पहुंच सकती हैं। बालासोर में पहुंचते समय हवाओं की रफ्तार 130-140 किमी प्रति घंटे रहेगी, जो अधिकतम 155 किमी तक पहुंच सकती है।
वहीं, कोलकाता में 4 मई को पहुंचते समय हवाओं की रफ्तार 90-100 किमी प्रति घंटे रहेगी, जो अधिकतम 115 किमी तक पहुंच सकती है। बांग्लादेश में भी चार मई को पहुंचते समय हवाओं की रफ्तार 50-60 किमी प्रति घंटे रहेगी, जो अधिकतम 70 किमी तक पहुंच सकती है। वहीं, पांच मई को आसाम में पहुंचने पर इस तूफान की तीव्रता में कमी आएगी।
इस तूफान का असर ओडिशा, तमिलनाडु, पुडुचेरी छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, झारखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल और सिक्किम राज्य पर भी पड़ेगा। तूफान की वजह से इन राज्यों के दिन के तापमान में कुछ गिरावट दर्ज की गई है। इन राज्यों में आंधी और बिजली के साथ बारिश की भी आशंका जताई गई है। तीन मई के लिए भी उत्तर प्रदेश और बिहार में ऐसी ही स्थिति बनी रहने की आशंका जताई है।
रक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। शैक्षणिक संस्थानों के साथ ही सभी तरह के कार्यालयों, व्यवसाओं को बंद रखने के आदेश दिए गए हैं और तटीय जिलों में रह रहे हजारों लोगों को सुरक्षित इलाके में पहुंचाया गया है। भारतीय मौसम विभाग ने उत्तर प्रदेश के किसानों के सलाह देते हुए कहा है- फोनी चक्रवात के असर को देखते हुए किसानों और भंडार गृहों को सलाह दी जाती है कि नमी और तेज हवा से फसल को होने वाले नुकसान से बचने के लिए कटी फसल, खुले में रखे अनाज और खेतों में तैयार फसल को काटकर सुरक्षित करने की समुचित व्यवस्था करें।
मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि दो मई को पूर्वी उत्तर प्रदेश में 50-60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चल सकती है। वहीं, बिहार में 40-50 किमी प्रति घंटे और उत्तराखंड, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, तमिलनाडु और पुडुचेरी में हवा की रफ्तार 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है।
गौरतलब है कि संयुक्त तूफान चेतावनी केंद्र से जारी नए पूर्वानुमान के मुताबिक, साल 1999 के सुपर साइक्लोन के बाद फोनी सबसे खतरनाक चक्रवात माना जा रहा है। यह तीन मई को दोपहर बाद जगन्नाथ पुरी से गुजरेगा। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि नौसेना, भारतीय वायुसेना और तटरक्षक बल को किसी भी चुनौती से निपटने के लिए हाईअलर्ट पर रखा गया है।
राज्य के मुख्य सचिव एपी पधी ने कहा कि सभी चिकित्सकों और स्वास्थ्य सेवा कर्मियों की छुट्टियां 15 मई तक रद्द कर दी गई हैं। राज्य के पुलिस प्रमुख आरपी शर्मा ने बताया कि सभी पुलिसकर्मियों की भी छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं और जो पुलिसकर्मी छुट्टी पर हैं, उन्हें तत्काल ड्यूटी पर लौटने को कहा गया है।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger