Madhya Pradesh Tourism

Home » » 20 मई तक अंडमान पहुंच जाएगा मानसून, जानिए कैसी बारिश होगी

20 मई तक अंडमान पहुंच जाएगा मानसून, जानिए कैसी बारिश होगी

नई दिल्ली। देश में एक तरफ जहां भीषण गर्मी है, वहीं दक्षिण के समुद्र तटीय राज्यों में चक्रवाती तूफान फेनी का खतरा मंडरा रहा है। इस बीच, मानूसन की चाल को लेकर पहली खबर आई है। मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, मानसून 20 मई तक अंडमान निकोबार पहुंच जाएगा। बता दें, फेनी तूफान के कारण अंडमान में हल्की बारिश हो रही है, जिससे गर्मी से परेशान लोगों को राहत मिली है। मौसम विभाग की अंडमान-निकोबार यूनिट के इंचार्ज सौरीश बंदोपाध्याय का कहना है कि 20 मई से यहां बारिश शुरू हो जाएगी और इसके साथ ही मानसून की आमद भी हो जाएगी।
बंदोपाध्याय के मुताबिक, पिछली बार की तरह ही इस बार भी मानसून सामान्य है। इस साल अंडमान-निकोबार में पारा 37 डिग्री तक पहुंच गया है, जो हाल के वर्षो में सबसे ज्यादा है। इसलिए हर कोई मानसून का इंतजार कर रहा है।
इससे पहले अप्रैल के पहले हफ्ते में निजी मौसम एजेंसी स्‍काईमेट ने बताया था कि इस साल मानसून में सामान्‍य से कम बारिश हो सकती है। एजेंसी ने सामान्य से कम मानसून के लिए 'अल नीनो' के असर को जिम्‍मेदार ठहराया है।
स्‍काईमेट के अनुमान के अनुसार, प्रशांत महासगर में गर्माहट सामान्‍य से ज्‍यादा है। इसके चलते मार्च से मई के बीच अल-नीनो का असर 80 प्रतिशत तक रह सकता है। वहीं, जून से अगस्‍त के बीच इसमें गिरावट आने और इसके 60 प्रतिशत तक पहुंचने की थोड़ी संभावना है। इसका मतलब यह हुआ कि इस साल पूरे मानसून सीजन में अल नीनो का असर बरकरार रहेगा, जिसके चलते कम बारिश होगी।
मानसून पूर्व बारिश में देश में 27 फीसद की कमी हुई दर्ज
मानसून से पहले होने वाली बारिश में 27 फीसद की कमी दर्ज की गई है। मौसम विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि मानसून से पहले मार्च से अप्रैल तक बारिश होती है और बारिश की यह बूंदें देश के कुछ हिस्सों में खेती के लिए काफी अहमियत रखती है।
मौसम विभाग के मुताबिक देश भर में एक मार्च से 24 अप्रैल के बीच 59.6 मिलीमीटर की सामान्य वर्षा के मुकाबले सिर्फ 43.3 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। यह दीर्घकालीन औसत (एलपीए) का 27 फीसदी कम है। एलपीए 50 साल की अवधि में दक्षिण पश्चिम मानसून के दौरान देश भर में हुई औसत वर्षा को कहा जाता है। सबसे ज्यादा 38 फीसद कमी मौसम विभाग के उत्तरपश्चिम भाग में दर्ज की गई। इस क्षेत्र में उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश आते हैं।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger