Madhya Pradesh Tourism

Home » » पुरी पहुंचा फेनी चक्रवात मचा रहा तबाही, 175 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही हवाएं

पुरी पहुंचा फेनी चक्रवात मचा रहा तबाही, 175 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही हवाएं

भुवनेश्वर। बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान Fani ओडिशा के तट से टकरा चुका है और पुरी पहुंच गया है। इसके यहां पहुंचते ही हवा की रफ्तार 175 किमी प्रतिघंटे से ज्यादा हो गई है और भीषण बारिश हो रही है। तूफान की तबाही का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सड़कों पर कुछ भी नजर नहीं आ रहा है। केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने 1938 हेल्पलाइन नंबर जारी किया है वहीं ओडिशा में इमरजेंसी नंबर 06742534177 जारी किया गया है।
मौसम विभाग के एडीजी महापात्रा के अनुसार इसकी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और अगले तीन घंटे यानि 11 बजे तक राज्य में 200 किमी की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। फिलहाल पुरी में 175 किमी की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं।
वहीं ओडिशा और आसपास के राज्यों में भारी बारिश हो रही है। सुबह 5.30 बजे तक यह तूफान ओडिशा से महज 65 किमी दूर था और इसकी वजह से जहां गोपालपुर में 10 सेमी से ज्यादा तो भुवनेश्वर में 5 सेंटीमीटर बारिश दर्ज हो चुकी है। पुरी में तो हवाएं 80 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही हैं।
तूफान को देखते हुए राज्य सरकार ने अलग-अलग शहरों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं।
चक्रवात का असर पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में भी नजर आएगा और रात 8.30 बजे तक यह पश्चिम बंगाल पहुंच जाएगा।
- इसे देखते हुए पश्चिम बंगाल में भी अलर्ट जारी है और कोलकाता जाने वाली फ्लाइट्स रद्द कर दी गईं हैं। साथ ही सुबह 9 बजे से रात तक एयरपोर्ट भी बंद रहेगा।
- भीषण हवाएं अपने साथ सबकुछ उड़ाकर ले जा रही हैं.
 पुरी के तट से टकराने के बाद शहर में भीषण बारिश और तूफानी हवाएं चल रही हैं।
 फेनी के कारण आंध्र प्रदेश में भी बारिश हो रही है और समुद्र अशांत है।
राज्य मौसम विभाग के डायरेक्टर एचआर बिस्वास के अनुसार चक्रवात फेनी के ओडिशा के तट से टकराने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और 8-11 बजे के बीच यह ओडिशा पहुंच जाएगा।
फोनी का असर ओडिशा के अलावा पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, असम, उत्तराखंड समेत कईं राज्यों में नजर आने वाला है।
मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट के अनुसार Fani पुरी से 80 किमी दूर है और आज दोपहर तक गोपालपुर के पास कट से टकरा सकता है। इसके बाद यह उत्तर-पश्चिम की तरफ आगे बढ़ेगा और संभवतः 4 मई की सुबह बांग्लादेश पहुंच सकता है।
ओडिशा पहुंचने पर यहां भीषण बारिश हो सकती है और हवाओं की रफ्तार 200-230 किमी प्रतिघंटा होने की आशंका है। हालांकि, जैसे-जैसे यह आगे बढ़ेगा वैसे-वैसे इसकी ताकत कम होती जाएगी।
- विभाग ने कहा है कि फेनी तूफान 16 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। यह आज दोपहर तक ओडिशा और चांदबली के बीच तट से टकराएगा और उसके तट से टकराने की प्रक्रिया दोपहर बाद तक चल सकती है।
तूफान की सारी तैयारियां कर ली गईं हैं और लोगों को भी सुरक्षित स्थानों तक पहुंचा दिया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार तूफान से प्रभावित होनने वाले इलाकों से करीब 10 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा गया है।
 गंजम और पुरी से ही 3 लाख और 1.3 लाख लोगों को निकाला गया है। वहीं शरणार्थी स्थलों पर लोगों के लिए 5000 से ज्यादा किचन बनाए गए हैं।
- साइक्लोन फानी के गृह मंत्रालय ने कंट्रोल रूम का नंबर जारी किया है जो 1938 है। वहीं साउथ बंगाल स्टेट ट्रांसपोर्ट कर्पोरेशन ने अपनी 50 बसें दिघा में लगाईं हैं ताकी वहां से पर्यटकों को निकाला जा सके।
तूफान का असर कोलकाता में भी नजर आ रहा है।
- रेलवे ने रद्द की 10 और ट्रेनें
रेलवे ने आज 10 और ट्रेनें रद्द की हैं इनमें से आज 7 ट्रेनें रद्द रहेंगी वहीं 4 मई को एक जबकि 6 और 7 मई को भी एक-एक ट्रेन रद्द होगी।
1999 के सुपर साइक्लोन से मारे गए थे 10 हजार
फेनी 1999 में आए सुपर साइक्लोन के बाद से सबसे भीषण तूफान है। संयुक्त तूफान चेतावनी केंद्र (जेडब्ल्यूटीसी) के अनुसार तब ओडिशा में करीब 10 हजार लोग मारे गए थे और भारी तबाही हुई थी।
पीएम ने दिए राज्यों से सतत संपर्क कर मदद के निर्देश
पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उच्च स्तरीय बैठक कर तूफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने अफसरों को निर्देश दिया कि वे प्रभावित होने वाले राज्यों के सतत संपर्क में रहें और तत्काल मदद मुहैया कराएं। बैठक में कैबिनेट सचिव, पीएम के प्रमुख सचिव, पीएम के अतिरिक्त प्रमुख सचिव, गृह सचिव व मौसम विभाग, एनडीआरएफ, एनडीएमए व पीएमओ के वरिष्ठ अफसर मौजूद थे।
एनडीआरएफ के 4000 जवान तैनात
हालात से निपटने के लिए तीनों राज्यों में राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की 81 टीमों को तैनात कर दिया गया है। इनमें 4000 से ज्यादा जवान हैं। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि करीब 50 टीमें ओडिशा, आंध्र व बंगाल के तटीय इलाकों में पहले से तैनात कर दी गई हैं। 31 अन्य टीमों को तैयार रखा गया है। चूंकि तूफान पुरी के तट से टकराएगा, इसलिए वहां सर्वाधिक 28 टीमें तैनात की गई हैं। आंध्र में 12 और बंगाल में छह टीमें तैनात की गई हैं।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger