Madhya Pradesh Tourism

Home » » सर्जरी के बाद पेट में छोड़ दिया था 12 cm का पाइप, कंज्यूमर फोरम ने दिया ये आदेश

सर्जरी के बाद पेट में छोड़ दिया था 12 cm का पाइप, कंज्यूमर फोरम ने दिया ये आदेश

चंडीगढ़। सर्जरी के बाद पेट में पाइप छोड़ने के मामले में कंज्यूमर फोरम ने पीड़ित महिला की शिकायत का निराकरण करते हुए आरोपी डॉक्टर्स पर जुर्माना लगाया है। सर्जरी के बाद डॉक्टरों ने महिला के पेट में 12 सेमी का पाइप छोड़ दिया। वह गाल ब्लैडर में पथरी का ऑपरेशन करवाने अस्पताल गई थी। जब इसका पता मरीज को चला तो उसकी शिकायत के बावजूद डॉक्टरों ने अपनी गलती मानने से इनकार कर दिया था। इसके बाद न्याय के लिए मरीज ने कंज्यूमर फोरम की शरण ली थी।
अब फोरम ने अस्पताल के अधीक्षक और दो सर्जन पर चार लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। मामला चंडीगढ़ के सेक्टर-16 स्थित गवर्नमेंट मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल(GMSH) का है। फोरम ने मरीज को दो लाख रुपये मुआवजा राशि भी देने का आदेश दिया है। दोषियों को उसे 50,000 रुपये केस खर्च अलग से देने होंगे।
फोरम ने कहा है कि अस्पताल के अधीक्षक और दोनों सर्जन डॉ. डाबर व डॉ. बाल 30 दिन के अंदर आदेश का पालन करें। शिकायतकर्ता उषा वर्मा हिमाचल प्रदेश के शिमला की रहने वाली हैं। उन्होंने फोरम में याचिका दायर कर 19 लाख रुपये मुआवजे की मांग की थी। याचिका में बताया गया था कि दोनों सर्जन ने उनके दो ऑपरेशन किए और 1,80,000 रुपये फीस ली। दवा पर खर्च अलग से।
सर्जनों ने दिया यह जवाब 
दोनों सर्जन ने अपनी दलील में कहा कि उनके द्वारा ऑपरेशन से पहले और बाद में कोई लापरवाही नहीं बरती गई। पाइप किसी वजह से टूटकर पेट के अंदर रह गया होगा। ऐसा मरीज के ज्यादा मूवमेंट के चलते भी हो सकता है। डॉक्टरों ने बताया कि उन्होंने जब सिटी स्कैन कराया तो उन्हें अंदर कुछ दिखाई दिया था। इसके लिए मरीज को ऑपरेशन करवाने की सलाह दी गई थी, लेकिन मरीज ने बार-बार यही कहा कि वह बिल्कुल ठीक है।
यह था मामला
16 अक्तूबर 2015 को GMSH, चंडीगढ़ में उषा वर्मा का ऑपरेशन कर पथरी निकाली गई थी। 19 अक्टूबर को उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। लेकिन उनकी बॉडी में ड्रेन पाइप लगी हुई थी। 21 अक्तूबर 2015 को उषा वर्मा अस्पताल में ड्रेन पाइप निकलवाने पहुंची। सर्जन ने उसके पेट में लगी ड्रेन पाइप को लापरवाही बरतते हुए आधा ही निकाला । इस तरह 12 सेंटीमीटर की पाइप उर्षा के पेट के अंदर ही रह गई।
26 अक्टूबर को उषा का सिटी स्कैन किया गया। सिटी स्कैन में ट्यूमर जैसी कोई चीज दिखाई दी। 28 अक्टूबर को उषा दोबारा अस्पताल में एडमिट हुई और उनकी दोबारा सर्जरी की गई। 29 अक्टूबर को पाइप निकाल दी गई। 31 अक्टूबर को उषा को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। लेकिन इस वजह से उषा को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger