Madhya Pradesh Tourism

Home » » Sadhvi Pragya ने दिग्विजय को बताया महिषासुर, कहा- अब EC में मेरे खिलाफ कर रहे षडंयत्र

Sadhvi Pragya ने दिग्विजय को बताया महिषासुर, कहा- अब EC में मेरे खिलाफ कर रहे षडंयत्र

भोपाल। लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट से बयानों का पारा लगातार चढ़ता जा रहा है। भाजपा प्रत्याशी घोषित होने के बाद दूसरे दिन भी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर लगातार कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह पर जमकर बरसी। शुक्रवार को बैरसिया में भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक के दौरान उन्होंने दिग्विजय सिंह को महिषासुर और संयम को महिषासुर मर्दनी बताया। मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने एक बार फिर साफ कर दिया कि भोपाल सीट का हाईप्रोफाइल चुनाव हिंदुत्व और भगवा आतंकवाद के मुद्दे पर ही लड़ा जाएगा। यह मुद्दा पूरे राष्ट्र का है और राष्ट्र से बढ़कर कुछ नहीं होता। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह ने कई कुकर्म किए हैं। इनके ही कुकर्मों का मैं प्रमाण हूं। प्रताड़ना की वजह से ही कैंसर का शिकार हुई। जब तक जिंदा हूं, देश के दुश्मनों का सफाया करूंगी। प्रताड़ना कारण मेरी रीड़ की हड्डी तक तोड़ दी। सीढ़िया भले ही न चढ़ सकूं लेकिन देश के लिए हर दम खड़ी रहूंगी।
चुनाव आयोग में मेरे खिलाफ कर रहे षडंयत्र
साध्वी ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि पहले मेरे खिलाफ आतंकवाद का षडयंत्र किया गया था। अब मेरी जमानत रद्द करवाने के लिए साजिश कर चुनाव आयोग में शिकायत कर रहे हैं। मैं उनकी नजर में इतना खटकती हूं कि मुझे बिना अपराध के ही फांसी की सजा सुना दें। उन्होंने कहा कि जब मैं बोलती हूं तो आतंकवादी पट-पट बोलता हैं।
जनता उन्हें दंड देगी
साध्वी ने कहा कि भगवा त्याग का प्रतीक है। दिग्विजय सिंह ने भगवा का घोर अपमान किया है। इसकी पीढ़ा पूरे साधु-संन्यासियों में भी है। लोग भी जानते हैं कि कांग्रेस गुनेहगार है। आतंकवाद के नाम पर धर्म को बदनाम करने वालों को जनता जल्द ही दंड देगी।
सोशल मीडिया पर हुई एक्टिव
अब तक सोशल मीडिया से दूर रही साध्वी प्रज्ञा सिंह ने ट्वीटर व फेसबुक पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है। उन्होंने सोशल मीडिया पर उनके नाम से फर्जी एकाउंट होने की बात कही थी। इसकी शिकायत भी उन्होंने की थी।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger