Madhya Pradesh Tourism

Home » » 11 बजे तक 25% मतदान, यहां बागी बिगाड़ सकता है सियासी गणित

11 बजे तक 25% मतदान, यहां बागी बिगाड़ सकता है सियासी गणित

बालाघाट। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सुबह 7 बजे से शुरू हुए मतदान में पहले 3 घंटे के दौरान लंबी कतार में लोग खड़े हुए और मतदान के लिए इंतजार करते रहे। सुबह 11 बजे तक लगभग 25% मतदान हो चुका है। मतदान के लिए ग्रामीण व शहरी दोनों क्षेत्रों में लोगों के भीतर उत्साह देखने को मिल रहा है। इस दौरान पूरे जिले में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान होने की खबर है। हर वर्ग के लोग मतदान के लिए आगे आ रहे हैं। जिससे एक बढ़िया संदेश लोगों के बीच में जा रहा है। लांजी बूथ क्रमांक 109 केशा में मतदान केंद्र पर दुल्हन अपना अमूल्य समय निकाल कर मतदान करने पहुंची तो इसी तरह अपने पिता के घर से विदाई के दौरान एक दुल्हन मतदान करके अपने ससुराल के लिए रवाना हुई।
बता दें कि इस सीट से भाजपा ने मौजूदा सांसद बोध सिंह भगत का टिकट काटकर ढाल सिंह बिसेन को मैदान में उतारा है। इससे नाराज होकर बोध सिंह भगत निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं कांग्रेस ने मधु भगत को मौका दिया है। दोनों ही प्रत्याशियों ने आज सुबह वोट डाला।
संसदीय क्षेत्र क्रमांक-15 में परिसीमन के बाद बालाघाट संसदीय सीट पर सियासी समीकरण बदल गए हैं। इस सीट पर बालाघाट जिले की विधानसभाएं भले ही ज्यादा हों और मतदाता भी ,पर इस सीट पर सिवनी जिले की दो विधानसभाएं निर्णायक साबित हो रही हैं। बरघाट-सिवनी की लीड पिछले दो चुनाव से यहां लीडर तय कर रही है। लिहाजा जो भी प्रत्याशी इन विधानसभाओं में बढ़त हासिल कर रहा है,वह जीतता आ रहा है।पिछले दो चुनावों के परिणामों के मुताबिक इस सीट पर लगातार सिवनी-बरघाट में भाजपा बड़े अंतर से बढ़त लेती चली आ रही है। जिसे बालाघाट जिले की 6 विधानसभाएं भी नहीं पाट पा रही हैं। इसी के चलते हारजीत का गणित लगा रहे 
राजनीतिक दलों से जुड़े लोग भी पिछले परिणाम और इस सीट पर बगावत के बाद बदली परिस्थितियों को लेकर असमंजस में पड़ गए हैं।
परिसीमन के बाद परिणाम
2009 में हुए चुनाव में यहां भाजपा प्रत्याशी ने 21115 वोट अधिक हासिल किए थे। जबकि हारजीत का अंतर 40819 था। इसी प्रकार यहां 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने बरघाट-सिवनी दोनों विधानसभाओं में 
75431 वोट कांग्रेस से प्राप्त किए थे। जबकि यहां हारजीत का अंतर 96041 वोट का अंतर था।
वर्तमान में वर्चस्व
बालाघाट-सिवनी संसदीय सीट की 8 विधानसभाओं में 3 में भाजपा का वर्चस्व है। बालाघाट,परसवाड़ा व सिवनी विधासभाओं में भाजपा के विधायक हैं। जबकि लांजी,बैहर,बरघाट,कटंगी में कांग्रेस के विधायक हैं। वहीं वारासिवनी विधानसभा में कांग्रेस समर्थित विधायक हैं। इस लिहाज से वर्तमान में 8 में से 5 सीटों में कांग्रेस काबिज है। जबकि इस लोकसभा सीट पर 1998 से लगातार भाजपा जीत हासिल करती चली आ रही है। करीब 47 साल बालाघाट संसदीय सीट पर कांग्रेस का दबदबा रहा है। 1998 में हारने के बाद कांग्रेस इस सीट पर अपनी 
वापसी नहीं कर पाई है।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger