Madhya Pradesh Tourism

Home » » चुनाव आते ही फिर गरमाने लगे जनहित के मुद्दे

चुनाव आते ही फिर गरमाने लगे जनहित के मुद्दे

शहडोल। चार जिलों तक फैली शहडोल लोकसभा क्षेत्र की सीमा में कुल 8 विधानसभा क्षेत्र हैं। इन 8 विधानसभा क्षेत्रों में कई ऐसे बड़े मुद्दे हैं जो चुनाव के समय अक्सर सामने आने लगते हैं। यह अलग बात है कि चुनाव होने के बाद इन मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं करता लेकिन जब चुनाव की मुनादी हो गई है एक बार फिर यह मुद्दे लोगों की चर्चाओं में हैं। वे मुद्दे भी चर्चा में हैं जिन पर काम नहीं हुआ और वह मुद्दे भी जिन पर काम करने की कोशिश की गई लेकिन जो परिणाम तक नहीं पहुंच पाए।
कैसा है लोकसभा का परिदृश्य
शहडोल लोकसभा क्षेत्र में कुल 8 विधानसभा सीट हैं जो 4 जिलों में आती हैं। अनूपपुर जिले की 3 विधानसभा सीट जिसमें कोतमा, अनूपपुर, पुष्पराजगढ़ शामिल है। शहडोल जिले की 2 विधानसभा सीट जिसमें जयसिंहनगर और जैतपुर शामिल है। उमरिया जिले की 2 विधानसभा सीट मानपुर, बांधवगढ़ और कटनी जिले की एक विधानसभा सीट बड़वारा भी इसी लोकसभा क्षेत्र में शामिल हैं।
नहीं हुए बड़े काम
शहडोल लोकसभा क्षेत्र के सांसद ज्ञान सिंह 2016 में हुए उपचुनाव में जीतकर सांसद बने थे और ऐसा कोई चमत्कार नहीं कर पाए, जिसका विशेष उल्लेख किया जा सके। उनका ज्यादातर समय या तो अपने गांव में बीता या फिर दिल्ली में रहे।
अधूरे रह गए यह काम
 1 उमरिया जिले के आकाशकोट के 25 गांव पानी की भारी किल्लत से आज भी जूझ रहे हैं।
- 2 शहडोल में मेडिकल कॉलेज का शुभारंभ हो जाना चाहिए था, लेकिन अभी तक इस कॉलेज को मान्यता भी नहीं मिल पाई है।
3 इंजीनियरिंग कॉलेज का निर्माण चल रहा है। कॉलेज को अभी तक ऑल इंडिया कौंसिल ऑफ टेक्निकल एजुकेशन से एप्रुवल नहीं मिल पायया है।
- 4 महाविद्यालयों की स्थापना हर जिले में की गई। इन कॉलेजों में प्राध्यापकों की कमी को दूर नहीं किया गया।
ये होंगे चुनाव के मुद्दे
- 1 बेरोजगारी को दूर करने के लिए वनोपज और किसानों की उपज पर आधारित उद्योग लगाए जाने की जरूरत। रिलायंस के सीबीएम प्रोजेक्ट में स्थानीय लोगों को नौकरी दिलाने का विषय भी चुनाव का हिस्सा रहेगा।
- 2 जिले की खदानों का कोयला लगभग खत्म हो चुका है। खदानों के विस्तार का मामला भी चुनाव का मुद्दा रहेगा। उमरिया जिले में मालाचुआ खदान और शहडोल जिले में दामिनी के विस्तार को लेकर लम्बे समय से लोगों को प्रतीक्षा है।
- 3 लोकसभा क्षेत्र में पानी का संकट दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। जल निगम की करोड़ों की योजनाओं को स्वीकृति की प्रतीक्षा है और पानी का यह मुद्दा भी चुनाव में गरमाएगा।
- 4 शिक्षा के क्षेत्र में भारी कमियां बनी हुई है। शिक्षा का मुद्दा भी लोकसभा चुनाव के दौरान सामने आ रहा है।
- 5 रेल यातायात भी शहडोल लोकसभा क्षेत्र के लोगों का एक बड़ा मुद्दा है।
ये हुए कुछ काम
- शहडोल में पासपोर्ट कार्यालय खोलने की पहल शुरू हुई।
- उत्कल एक्सप्रेस का स्टपेज जैतहरी और नौतनवा एक्सप्रेस का स्टपेज अमलाई रेलवे स्टेशन में कराया।
- गोंदिया एक्सप्रेस को बुढ़ार रेलवे स्टेशन में स्टपेज दिलाया गया।
- उमरिया जिले के रेलवे स्टेशनों में फुट ओवरब्रिज का निर्माण विशेष उल्लेखनीय रहा।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger