Madhya Pradesh Tourism

Home » » खुर्शीद के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। यूजर्स यही सलाह दे रहे हैं कि कम से कम सेना के नाम पर तो राजनीति ना हो। दिग्विजय सिंह ने मांगे सबूत, इमरान की तारीफ की इससे पहले शनिवार को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इंदौर में कहा कि यदि कोई सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहा है तो भारत सरकार को सबूत देकर उनका मुंह बंद कर देना चाहिए। इतना ही नहीं विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की रिहाई के लिए उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बधाई दी। इंदौर के डेली कॉलेज के एल्यूमिनी मीट के लिए इंंदौर आए दिग्विजय सिंह ने भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तनाव को लेकर पूछे गए सवालों पर कहा कि जब जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा हमले की जिम्मेदारी ली उसके बावजूद पाकिस्तान को कौन से सबूत चाहिए। पाकिस्तान को अपनी सरजमीं पर आतंकवाद की सरपरस्ती को बंद करना चाहिए। जैश द्वारा इस घटना की जिम्मेदारी लेने के बाद पाकिस्तान को चाहिए था कि वो मसूद अजहर और हाफीज सईद को गिरफ्तार कर भारत को सौंपता।

खुर्शीद के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। यूजर्स यही सलाह दे रहे हैं कि कम से कम सेना के नाम पर तो राजनीति ना हो। दिग्विजय सिंह ने मांगे सबूत, इमरान की तारीफ की इससे पहले शनिवार को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इंदौर में कहा कि यदि कोई सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहा है तो भारत सरकार को सबूत देकर उनका मुंह बंद कर देना चाहिए। इतना ही नहीं विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की रिहाई के लिए उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बधाई दी। इंदौर के डेली कॉलेज के एल्यूमिनी मीट के लिए इंंदौर आए दिग्विजय सिंह ने भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तनाव को लेकर पूछे गए सवालों पर कहा कि जब जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा हमले की जिम्मेदारी ली उसके बावजूद पाकिस्तान को कौन से सबूत चाहिए। पाकिस्तान को अपनी सरजमीं पर आतंकवाद की सरपरस्ती को बंद करना चाहिए। जैश द्वारा इस घटना की जिम्मेदारी लेने के बाद पाकिस्तान को चाहिए था कि वो मसूद अजहर और हाफीज सईद को गिरफ्तार कर भारत को सौंपता।

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की वापसी के बाद पूरे देश में जश्न का माहौल है। अभिनंदन ने बीती रात वाघा-अटारी सीमा के जरिए भारतीय सरजमीं पर कदम रखा। जब पाकिस्तान ने अभिनंदन को भारतीय अधिकारियों के हवाले किया तब उनके साथ एक महिला भी नजर आई थी। जानिए कौन है वह महिला -
अभिनंदन के साथ चहलकदमी करने वाली इस महिला को देखकर लोगों का लगा कि शायद वो अभिनंदन के परिवार की कोई सदस्य हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। इन मोहतरमा का नाम है डॉ. फरिहा बुगती।
फरिहा भारत के आईएफएस के बराबर अधिकारी हैं और अपने विदेश कार्यालय (भारत के विदेश मंत्रालय के समकक्ष) पर भारत के मामलों को संभालने की प्रभारी हैं।
पिछले साल इस्लामाबाद में कुलभूषण जाधव, उनकी मां और पत्नी के बीच मुलाकात के दौरान भी फरिहा मौजूद थीं।
अभिनंदन को डॉ. फरिहा बुगती की देखरेख में ही इस्लामाबाद से पहले लाहौर और फिर वाघा बॉर्डर लाया गया।
पीओके में गिरे पर हौसला नहीं खोया
27 फरवरी को ही पाक विमानों को खदड़ने के दौरान अपना मिग-21 क्रैश होने से विंग कमांडर अभिनंदन विमान से कूद गए थे। वह जहां गिरे, वह इलाका पाक कब्जे वाले कश्मीर में था। जांबाज अभिनंदन पर वहां हमला किया गया, लेकिन उन्होंने हौसला नहीं खोया। भारत माता की जय के नारे लगाने के साथ ही उन्होंने साहस व संयम का परिचय देते हुए हवाई फायर कर जान बचाई। अपने पास के दस्तावेज निगले, लेकिन दुश्मन के हाथ में नहीं पड़ने दिए। इसी बीच पाक सेना पहुंची और उन्हें भीड़ से छुड़ाकर अपने कब्जे में ले लिया। जब तक पाकिस्तान की हिरासत में रहे, उन्होंने पहचान के नाम पर सिर्फ नाम व रैंक बताई।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger