Madhya Pradesh Tourism

Home » » दर्जनभर सीटें डेंजर जोन में, भाजपा बदलेगी कई चेहरे

दर्जनभर सीटें डेंजर जोन में, भाजपा बदलेगी कई चेहरे

भोपाल। विधानसभा चुनाव के परिणाम, मौजूदा राजनीतिक हालात और चुनावी सर्वे में लगभग एक दर्जन सीटें ऐसी हैं, जहां भारतीय जनता पार्टी की पिछड़ रही है। कई सीटें ऐसी हैं, जहां सांसदों के खिलाफ एंटी इनकमबेंसी है। 29 लोकसभा क्षेत्रों में से भाजपा के पास फिलहाल 26 सीटें हैं। कांग्रेस के पास मात्र तीन सीटें हैं पर पार्टी इस बार 15 से ज्यादा सीटें जीतने की कोशिश में है। विधानसभा चुनाव 2018 के परिणामों के आधार पर लोकसभा सीटों का विश्लेषण करें तो 14 सीटें ऐसी हैं, जहां आठ में से भाजपा के पास आधी से भी कम सीटें आई हैं। पार्टी ऐसी सीटों पर अब चेहरे बदलकर लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रही है।
मुरैना : सांसद अनूप मिश्रा को पार्टी दोबारा उतारने के मूड में नहीं है। यहां विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को आठ में से सात और भाजपा को मात्र एक सीट मिली है। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर यहां लौट सकते हैं।
रतलाम : कांग्रेस सांसद कांतिलाल भूरिया की इस आदिवासी सीट पर भी भाजपा को तीन और कांगे्रस को पांच सीट पर बढ़त मिली है। 2014 में यहां से भाजपा के दिलीप सिंह भूरिया जीते थे, लेकिन उनके निधन के बाद उपचुनाव में भूरिया की बेटी निर्मला हार गई थीं।
भिंड : कांग्रेस से आकर भाजपा से सांसद बने डॉ. भागीरथ प्रसाद के खिलाफ सर्वे में माहौल ठीक नहीं बताया गया है। विधानसभा चुनाव में यहां भाजपा को मात्र दो सीट मिली है। कांग्रेस को पांच और एक पर बहुजन समाज पार्टी जीती है। यहां के सर्वे में भी पार्टी नया चेहरा तलाश रही है। पूर्व सांसद अशोक अर्गल और लालसिंह आर्य का नाम विचारक्षेत्र में है।
दमोह : सांसद प्रहलाद पटेल यहीं से चुनाव लड़ना चाहते हैं पर विधानसभा चुनाव में यहां की आठ में से भाजपा को मात्र तीन सीट मिली हैं। चार पर कांग्रेस और एक पर बसपा के जीतने से समीकरण बिगड़ गए हैं।
छिंदवाड़ा : मुख्यमंत्री कमलनाथ की पारंपरिक सीट में सभी विधायक कांग्रेस के जीते हंै। भाजपा यहां से किसी बड़े नेता को चुनाव में उतारने की तैयारी में है।
बालाघाट : सांसद बोधसिंह भगत के खिलाफ एंटी इनकमबेंसी नहीं है पर विधानसभा चुनाव में यहां भाजपा को तीन सीट मिली है। पार्टी सूत्रों की मानें तो भगत को एक मौका मिल सकता है या नीता पटेरिया को भी पार्टी आजमा सकती है।
मंडला : फग्गनसिंह कुलस्ते की सीट को इस बार खतरे में बताया गया है। अब पार्टी यहां से राज्यसभा सदस्य सम्पतिया उईके के नाम पर भी विचार कर रही है। ऐसे हालात में कुलस्ते राज्यसभा भेजने के विकल्प पर बातचीत चल रही है।
राजगढ़ : सर्वे में सांसद रोडमल नागर के खिलाफ अनुकूल माहौल नहीं है। विधानसभा में भी भाजपा को मात्र दो सीटों पर बढ़त मिली। पांच कांग्रेस के पास और एक पर निर्दलीय प्रत्याशी को जीत मिली है। पार्टी देख रही है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह कहां से चुनाव लड़ते हैं, उसके बाद राजगढ़ का फैसला किया जाएगा।
खंडवा : सांसद नंदकुमार सिंह चौहान के लोकसभा क्षेत्र में भी भाजपा को मात्र तीन विधायक मिल पाए। कांग्रेस के चार और एक निर्दलीय विधायक हैं। यहां से पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस भी टिकट की दौड़ में हैं।
खरगोन : आदिवासी सीट खरगोन लोकसभा में भाजपा का मात्र एक विधायक जीतकर आया है। पार्टी यहां भी नए चेहरे को उतारने की तैयारी में है।
धार : पार्टी के सर्वे में सांसद सावित्री ठाकुर के खिलाफ भी अनुकूल माहौल नहीं बताया है। जय युवा आदिवासी शक्ति (जयस) के कारण इस सीट पर पार्टी कोई नए चेहरे को आजमा सकती है। पूर्व मंत्री रंजना बघेल भी यहां से टिकट की दौड़ में है।
गुना : कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुना-शिवपुरी सीट में विधानसभा सीटों के लिहाज से देखा जाए तो कांग्रेस को पांच और भाजपा को तीन सीटें मिली हैं पर वोट प्रतिशत के लिहाज से देखा जाए तो भाजपा के खाते में ज्यादा वोट आए हैं। इसके विपरीत कई सीटें ऐसी हैं जहां विधानसभा सीट और वोट के लिहाज से भाजपा पिछड़ रही है।
देवास, विदिशा और खजुराहो में भी नए चेहरे आएंगे 
देवास से मनोहर ऊंटवाल विधायक बन गए। पार्टी यहां से केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत को उतार सकती है। कांग्रेस नेता गोपाल इंजीनियर को भी पार्टी में लाए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। विदिशा से सुषमा स्वराज के चुनाव नहीं लड़ने की दशा में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी विकल्प माना जा रहा है। खजुराहो से नागेंद्र सिंह के विधायक बनने के बाद यहां से उमेश शुक्ला और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा के नाम पर चर्चा चल रही है। मंदसौर में भी सुधीर गुप्ता का विकल्प तलाश जा रहा है।
सभी स्थितियों पर नजर 
भाजपा की नजर प्रदेश की सभी राजनीतिक स्‍थतियों पर है। सभी स्तर पर आंकलन भी किया जा रहा है। जो चुनौतियां हैं, हम उनका मजबूती से सामना करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में लोकसभा सीटें जीतेंगे। - डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश प्रभारी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भाजपा
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger