Madhya Pradesh Tourism

Home » » जाबांजों के परिवार से हैं विंग कमांडर अभिनंदन, पिता ने कारगिल युद्ध में निभाई थी अहम भूमिका

जाबांजों के परिवार से हैं विंग कमांडर अभिनंदन, पिता ने कारगिल युद्ध में निभाई थी अहम भूमिका

नई दिल्ली। पुंछ और राजौरी में 3 एफ-16 पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों के घुसने पर 27 फरवरी को भारत ने भी जवाबी कार्रवाई की थी। वायुसेना ने घुसपैठ का जवाब देने के लिए 2 मिग-21 और 3 सुखोई-30 भेजे थे। मिग के पायलट ने एक पाकिस्तानी एफ-16 मार गिराया। हालांकि, इस दौरान हमारा एक मिग क्रैश हो गया और पायलट विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में बंदी बना लिए गए।
पाकिस्तान की ओर से जारी किए गए एक वीडियो में अभिनंदन को कुछ लोग पीटते हुए दिख रहे हैं। एक अन्य वीडियो में अभिनंदन की आंखों पर पट्टी है और वो कह रहे हैं, 'मेरा नाम विंग कमांडर अभिनन्दन है। मेरा सर्विस नंबर 27981 है। मैं एक फ्लाइंग पायलट हूं और मैं हिन्दू हूं।' और ज्यादा सवाल पूछे जाने पर उन्होंने बड़ी विनम्रता से कहा कि मैं इससे ज्यादा जानकारी आपको नहीं दे सकता।
पाकिस्तान के कब्जे में होने के बावजूद भी इस जांबाज के चेहरे पर कोई खौफ नहीं था। मुश्किल और बंदी होने के बाद भी गर्व और वीरता अभिनंदन के चेहरे में साफ झलक रही थी। दरअसल, यह वीर जांबाजों के परिवार से है, जिसके पिता और पत्नी वायुसेना में अपनी सेवाएं दे चुके हैं।
एयर मार्शल रहे हैं पिता
अगस्त 2017 को भारत सरकार ने एक पैनल बनाने की घोषणा की। उस पैनल को रूस के साथ मिलकर फिफ्थ जनरेशन फाइटर एयरक्राफ्ट की डिजाइन तैयार करनी थी। यह ऐसा एयरक्राफ्ट होगा, जिसे किसी भी मिसाइल से नुकसान पहुंचाना नामुमकिन होगा। जानते हैं इस प्रोजेक्ट को लीड कौन कर रहा था... पूर्व एयर मार्शल सिम्हाकुट्टी वर्तमान यानि विंग कमांडर अभिनंदन के पिता।
पिता ने अपग्रेड करवाया मिराज-2000
खुद एयर मार्शल वर्तमान के पास 4000 घंटे से ज्यादा और 40 से ज्यादा तरह के प्लेन उड़ाने का अनुभव हैं। वह साल 1973 में वायुसेना में बतौर फाइटर पायलट शामिल हुए थे। वह करगिल युद्ध के दौरान मिराज स्क्वाड्रन के चीफ ऑपरेशन्स ऑफिसर थे। वो 2017 में आई मणि रत्नम की फिल्म कातरू वेलियिदई में कंसल्टेंट भी रहे, जिसकी कहानी 1999 करगिल वॉर में पाकिस्तान में फंसे एक पायलट की थी। नियति तो देखिए कि अब उनका बेटा अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे में है।
साल 2011 में वायुसेना ने कहा था कि करगिल युद्ध के दौरान वर्तमान चीफ ऑपरेशन्स ऑफिसर ऑफ ग्वालियर थे। वहां उन्होंने अपने फ्लाइट टेस्ट एक्सपीरियंस का इस्तेमाल करते हुए मिराज-2000 के अपग्रेडेशन को को-ऑर्डिनेट किया था। इसके बाद हवाई अभियानो में इस विमान ने अपनी सफलता के परचम लहरा दिए थे। दिलचस्प बात यह है कि पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक के लिए भी मिराज-2000 को ही चुना गया था।
पत्नी भी अफसर रैंक में रही हैं
कुछ दिन पहले एक कार्यक्रम में रिटायर्ड एयर मार्शल एस वर्तमान ने कहा था कि फाइटर प्लेन ये नहीं जानता कि उसे उड़ाने वाला मर्द है या औरत। अभिनंदन की पत्नी तन्वी मारवाह ने भी बतौर स्क्वार्डन लीडर एयरफोर्स में 15 साल बिताए हैं। एयर फोर्स में ये पद अफसर रैंक का होता है। तन्वी मारवाह भी एयर फोर्स की जांबाज अफसर मानी जाती थीं। रिटायरमेंट के बाद भी तन्वी मारवाह का नाम एयर फोर्स में सम्मान के साथ लिया जाता है। इस बहादुर परिवार को हमारा सैल्यूट।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger