Home » , » दुनियाभर में साढ़े छह करोड़ लोगों ने लाइव देखा शाही स्नान

दुनियाभर में साढ़े छह करोड़ लोगों ने लाइव देखा शाही स्नान

कुंभ नगर। पहली बार कुंभ के वैभव को देश-दुनिया के लोगों ने घर बैठे देखा। वर्चुअल रिएलिटी (वीआर) के माध्यम से भारत के अलावा 53 देशों के लगभग 1.5 करोड़ लोगों ने पहले शाही स्नान की भव्यता अपने मोबाइल फोन और लैपटॉप पर देखी। मंगलवार को सुबह साढ़े छह बजे शाही स्नान का सजीव प्रसारण शुरू हो गया था। इस सिस्टम का लोकार्पण 10 जनवरी को मुख्यमंत्री ने मेला क्षेत्र में किया था।
वर्चुअल रिएलिटी के माध्यम से पूरी दुनिया में कुंभ को लाइव दिखाने के लिए मेला क्षेत्र में 16 कैमरे लगाए गए हैं, जबकि 150 लोगों की टीम मेला से लेकर मुंबई और बेंगलुरु में सक्रिय है। सुबह साढ़े छह बजे से ही संगम की अलौकिक छटा का सजीव प्रसारण शुरू हो गया था। इसी क्रम में शाही स्नान का प्रसारण शुरू हुआ, जो कि अपराह्न तीन बजे तक दिखाया गया।
कुंभ मेला अधिकारी विजय किरन आनंद ने बताया कि विदेश में सबसे ज्यादा यूरोप के करीब 72 लाख लोगों ने शाही स्नान को लाइव देखा। जबकि देश में लगभग पांच करोड़ लोगों ने इस माध्यम से शाही स्नान का सीधा प्रसारण देखा। इसमें उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, दिल्ली, उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, बिहार, उड़ीसा, गुजरात व महाराष्ट्र के लोग ज्यादा हैं।
कुंभ मेलाधिकारी के मुताबिक आने वाले प्रमुख स्नान पर्वों के साथ ही शाही स्नान पर्वों का भी सजीव प्रसारण मोबाइल फोन पर देख सकेंगे। इसके अलावा गंगा पंडाल के सांस्कृतिक आयोजनों समेत विभिन्न संतों के प्रवचन भी पूरी दुनिया को लाइव दिखाए जाएंगे।
ऐसे देख सकते हैं कुंभ लाइव
सबसे पहले प्रयागराज मेला प्राधिकरण की वेबसाइट पर जाना होगा, जिस पर वीडियो चलता मिलेगा। उसे डाउनलोड करना होगा, फिर वर्चुअल रियलिटी हेडसेट (आई लेंस युक्त) लगाना होगा। इसके बाद ब्लूटूथ डिवाइस की तरह ही वीडियो और हेडसेट को इंटीग्रेट करना होगा, जिसके बाद मोबाइल, लैपटॉप अथवा डेस्कटॉप पर कुंभ लाइव देखा जा सकेगा।
यह है वर्चुअल रिएलिटी
वर्चुअल रिएलिटी के लिए कई कंपनियां वीआर हेडसेट तैयार कर रही हैं। इसमें हेडसेट और मोबाइल के जरिए फिल्म देख सकते हैं या गेम खेल सकते हैं। उस दौरान ये एहसास कराया जाता है कि आप उस जगह पर मौजूद हैं, जहां वो घटनाएं हो रही हैं। इसमें 16 कैमरों की मदद से लाइव दिखाया जाता है, जिसमें ग्राफिक्स वगैरह डालकर उसे वीआर तकनीक से देखने के लिए तैयार किया जाता है।


Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger