Madhya Pradesh Tourism

Home » » बड़ी कामयाबी: अमरनाथ यात्रियों पर हमला करने वाला आतंकी जीनत ढेर

बड़ी कामयाबी: अमरनाथ यात्रियों पर हमला करने वाला आतंकी जीनत ढेर

श्रीनगर। सुरक्षाबलों ने वादी में आतंकी कमांडरों के सफाए के अभियान को जारी रखते हुए शनिवार रात दो आतंकियों को मार गिराया। मारा गया एक आतंकी अलबदर के चीफ कमांडर जीनत उल इस्लाम उर्फ अलकामा उर्फ डॉ. उस्मान है। जिसे उसके एक साथी के साथ यारीपोरा (कुलगाम) में मुठभेड़ के दौरान मार गिराया।
12 लाख का इनामी जीनत मोस्ट वांटेड आतंकियों में से एक था। बीए पास जीनत ने ही बीते दो सालों के दौरान मोस्ट वांटेड आतंकी रियाज नायकू व अन्य आतंकियों के साथ मिलकर पुलिसकर्मियों के परिजनों को निशाना बनाने की साजिश रची थी। वहीं, तीन पुलिसकर्मियों को अगवा कर मौत के घाट उतारने की साजिश में मुख्य भूमिका निभाई थी। इसके अलावा 2017 में अनंतनाग के पास श्री अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर हमले में भी वह शामिल रहा है। जीनत दर्जनों आतंकी वारदात में वांछित था। उसकी मौत सुरक्षाबलों के लिए बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।
दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले के यारीपोरा में तीन से चार आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर सेना की 34 आरआर, राज्य पुलिस विशेष अभियान दल (एसओजी) और सीआरपीएफ ने अभियान चलाया। सुरक्षाबलों को अपने तंत्र से पता चला था कि कश्मीर में अलबदर का नेटवर्क बनाने में जुटा जीनत किसी संपर्क सूत्र के पास रुका है। शाम करीब साढ़े पांच बजे जब जवानों ने कटपोरा मोहल्ले की तलाशी शुरू की तो वहां एक मकान में छिपे आतंकियों ने घेराबंदी तोड़ भागने का प्रयास किया।
इस दौरान सुरक्षाबलों ने घेराबंदी में फंसे जीनत और उसके साथियों को आत्मसमर्पण करने के लिए भी कहा, लेकिन वह नहीं माने। इतना ही नहीं सुरक्षाबलों ने सरेंडर करवाने के लिए आतंकियों के परिवार से भी संपर्क किया गया। लेकिन कोई भी आतंकी सरेंडर करने को तैयार नहीं हुआ। इसके बाद शुरू हुई मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए। वहीं, दो अन्य आतंकियों के वहीं छिपे होने की आशंका पर सुरक्षाबलों ने देर रात तक घेराबंदी को जारी रखा। मारे गए आतंकी जीनत उल इस्लाम और शकील अहमद डार उर्फ फैसल दोनों चिलीपोरा (शोपियां) के रहने वाले थे।
हिंसक भीड़ ने किया पथराव
मठभेड़ में जीनत की मौत की खबर फैलते ही कटपोरा और यारीपोरा समेत कुलगाम व शोपियां के विभिन्न हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए। आतंकी समर्थक भीड़ ने मुठभेड़स्थल पर जमा सुरक्षाबलों पर पथराव भी किया। हालात पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों को भी बल प्रयोग करना पड़ा। प्रशासन ने इलाके में अफवाहों पर काबू पाने के लिए अगले आदेश तक मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया है। सभी संवेदनशील इलाकों में निषेधाज्ञा भी लागू कर दी गई है।
अब ये बचे हैं प्रमुख कमांडर
अंसार उल गजवा-ए-हिंद का कमांडर जाकिर मूसा, हिजबुल का डिवीजनल कमांडर रियाज नायकू, इम्तियाज अहमद कांडू, जुनैद खान, लश्कर कमांडर सैफुल्ला, पाकिस्तानी अबु जारगाम, जैश कमांडर गाजी अब्दुल रशीद, कासिम, अतहर, जिया उर रहमान, छोटा अजहर, सुल्तान व बंबार खान।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger