Home » » बुलंदशहर हिंसा: DGP ने बताया साजिश, सुबोध कुमार के परिजनों से मिल सकते हैं CM योगी

बुलंदशहर हिंसा: DGP ने बताया साजिश, सुबोध कुमार के परिजनों से मिल सकते हैं CM योगी

बुलंदशहर। यहां हुई हिंसा में शहीद हुए पुलिसकर्मी सुबोध कुमार के परिजनों से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुलाकात कर सकते हैं। वहीं यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने कहा है कि बुलंदशहर का मामला बड़ा षडयंत्र है। यह सिर्फ कानून-व्यवस्था का मुद्दा नहीं है।
खबरों के अनुसार सुबोध कुमार का परिवार गुरुवार को मुख्यमंत्री से मिलने लखनऊ जा सकता है। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री हिंसा की एसआईटी द्वारा जांच और उसकी रिपोर्ट पेश किए जाने के बाद मिल सकते हैं।
बुलंदशहर स्थित स्याना में हुए बवाल में इंस्पेक्टर व एक युवक की मौत की घटना की जांच के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के लिए एसआईटी गठित की है, जिसे एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिरोडकर लीड कर रहे हैं। एसआईटी को बुधवार को अपनी जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री को देनी है।
मंगलवार तड़के एसआईटी जांच के लिए चिगरावठी पुलिस चौकी पहुंची। चौकी का मौका मुआयना करने के बाद एसआइटी ने महाव गांव निवासी पूर्व प्रधान राज कुमार के गन्ने के खेत का भी मुआयना किया, जहां से गोवंश के अवशेष मिले थे।
कुछ ग्रामीणों से भी घटना के बारे में जानकारी ली। करीब चार घंटे बाद एसआईटी लौट गई। चिगरावठी गांव से लौटने के बाद एडीजी ने अपने विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक भी की।
मुख्य आरोपी अब भी फरार
बुलंदशहर जिले के चिंगारवटी के स्याना में सोमवार को गोकशी को लेकर भड़की हिंसा का मुख्य आरोपित बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज फरार हो गया है। पुलिस ने इस मामले में चार अन्य नामजद आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इंस्पेक्टर के गमजदा परिजनों ने दोषियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, इंस्पेक्टर व युवक सुमित की मौत .32 बोर की गोली लगने से हुई।
इनकी हुई गिरफ्तारी 
पुलिस ने बलवा करने के आरोप में सतीश निवासी चांदपुर, चमन पुत्र देवेंद्र, देवेंद्र पुत्र रामफल निवासी नयाबांस व आशीष चौहान पुत्र महेश चौहान निवासी बुगरासी को गिरफ्तार किया है। चमन योगेश राज का चचेरा भाई है और देवेंद्र चाचा है। गांव से ज्यादातर युवा भूमिगत हो गए हैं। अधिकतर महिलाएं भी रिश्तेदारियों में चली गई हैं।
27 पर नामजद केस
उप्र पुलिस के एडीजी आनंद कुमार ने बताया कि छह पुलिस दल हिंसा के वीडियो फुटेज देखकर आरोपितों की पहचान कर रहे हैं। अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 27 लोगों पर नामजद केस दर्ज किया है जबकि एफआइआर में 50-60 अज्ञात लोगों पर हमले का आरोप है। पुलिस के अनुसार, घटना का मुख्य संदिग्ध बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज फरार हो गया है। पूरे इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger