Home » » पूर्व विदेश मंत्री ने ट्रंप को बताया अनुशासनहीन, राष्ट्रपति ने दिया जवाब- वो गूंगे और आलसी थे

पूर्व विदेश मंत्री ने ट्रंप को बताया अनुशासनहीन, राष्ट्रपति ने दिया जवाब- वो गूंगे और आलसी थे

वॉशिंगटन । ट्रंप प्रशासन के पूर्व मंत्री ने राष्ट्रपति को अनुशासनहीन और कानून को तोड़ने वाला बताया है। अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अनुशासित नहीें हैं और लगातार कानून तोड़ने वालों में से हैं। वहीं ट्रंप ने जवाब देते हुए कहा कि टिलरसन गूंगे और आलसी थे। बता दें कि टिलरसन को मार्च महीने में ट्रंप ने विदेश मंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया था। उनके स्थान पर सीआइए के निदेशक माइक पांपियो को नया विदेश मंत्री बनाया गया है।
टिलरसन ने अपने एक इंटरव्यू में कहा कि मुझे लगता है कि हम दोनों के काम करने का तरीका बहुत अलग है। हमारी शैलियां अलग हैं। लेकिन फिर भी मैं ट्रंप से कहना चाहता हूं कि मुझे पता है, आप क्या करना चाहते हैं। लेकिन वह कानून का उल्लंघन है। वह एक संधि का उल्लंघन करता हैं। टिलरसन ने आगे कहा कि ट्रंप वास्तव में हताश हो गए हैं। पहले मैं उन्हें मना करता था कि आप ये चीजें नहीं कर सकते हैं। वो मुझसे रोज लड़ कर थक गए थे। टिलरसन के इस बयान के बाद ट्रंप बौखला गए। उन्होंने ट्वीट किया कि टिलरसन के पास वो काबिलियत नहीं थी, जो एक शीर्ष अमेरिकी राजनयिक के पास होनी चाहिए। वह गूंगे और आलसी थे। इसके बावजूद मैं उनसे जल्दी छुटकार नहीं पा सका। अब ये उनकी नई चाल है।
पूर्व विदेश मंत्री ने कहा कि ट्रंप जैसे अनुशासनहीन राष्ट्रपति के साथ काम करना मेरे लिए बहुत मुश्किल था। उन्हें किताब पढ़ना पसंद नहीं है। बहुत सारी चीजों के विवरण में शामिल होना पसंद नहीं करते थे और न ही ब्रीफ्रिंग रिपोर्ट पढ़ते थे। उन्हें लगता था कि उनकी समझ विशेषज्ञों से ज्यादा बेहतर है। ट्रंप ने इसका जवाब देते हुए कहा कि एक बार टिलरसन ने उन्हें कोई किताब पढ़ने को दी थी, लेकिन तभी उनका एक जरूरी फोन आ गया था, जिसकी वजह से वह वो किताब पढ़ नहीं पाए थे।
गौरतलब है कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों से मुक्त करने के तरीकों को लेकर ट्रंप और टिलरसन में मतभेद के कारण टिलरसन को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी थी। टिलरसन हमेशा से चाहते थे कि अमेरिका और उत्तर कोरिया आपस में बातचीत करें, लेकिन ट्रंप उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग से मिलने से पहले प्योंगयांग पर अधिकतम दबाव लागू करना चाहते थे। इससे डर लग रहा था कि टिलरसन भी उत्तर कोरिया को रियायत देने के लिए तैयार हो सकता है।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger