Home » » राफेल सौदा मामले पर SC ने कहा- बंद लिफाफे में बताए विमानों की कीमत

राफेल सौदा मामले पर SC ने कहा- बंद लिफाफे में बताए विमानों की कीमत

नई दिल्ली। राफेल सौदा मामले में दायर याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई हुई इस दौरान कोर्ट ने सरकार से विमानों की कीमत की जानकारी मांग ली है। इस मामले में शीर्ष अदालत में चार याचिकाएं दाखिल हुई थीं।
सुप्रीम कोर्ट ने बंद लिफाफे में सरकार से 10 दिनों के भीतर सौदे की कीमत और इंडियन ऑफसेट पार्टनर के बारे में जानकारी मांगी है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सरकार हलफनामे में चाहे तो बात सकती है कि वो कीमत नही बताएंगे। इस मामले में अगली सुनवाई 14 नवंबर को होगी।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार ने जिन सूचनाओं को उपलब्‍ध कराया है उन्‍हें वैध तरीके से पब्लिक डोमेन में लाया जाना चाहिए। हालांकि इंडियन ऑफसेट पार्टनर के बारे में जानकारी गोपनीय रखी जायेगी। सुरक्षा कारणों से उसे सीलबंद लिफाफे में दिया जाय।
प्रधान न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एसके कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की पीठ इस मामले में दायर अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा, विनीत धांडा, पूर्व केंद्रीय मंत्रियों यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी व वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण और आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह की याचिकाओं पर सुनवाई की।
10 अक्टूबर को पीठ ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया था कि वह राफेल सौदे पर फैसला लेने की प्रक्रिया का चरणबद्ध विवरण सीलबंद लिफाफे में अदालत में दाखिल करे। इसके बाद सरकार ने 27 अक्टूबर को केंद्र सरकार ने सीलबंद लिफाफे में राफेल के खरीद की प्रक्रिया के कागजात सुप्रीम कोर्ट में जमा किये थे।
अब कहा, विधानसभा चुनावों के बाद हो सुनवाई
इस मामले में सरकार को सबसे पहले सुप्रीम कोर्ट में खींचने वाले अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा ने शीर्ष अदालत में एक अंतरिम याचिका दाखिल की है। इसमें उन्होंने अपनी जनहित याचिका की सुनवाई पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के बाद करने की मांग की है। ऐसा उन्होंने उन लोगों को जवाब देने के लिए किया है जो उनकी याचिका को राजनीति से प्रेरित करार दे रहे हैं।
चुनाव आयोग ने हाल ही में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, मिजोरम और तेलंगाना में विधानसभा चुनावों की घोषणा की है। यह प्रक्रिया दिसंबर के पहले पखवाड़े में खत्म हो जाएगी। मनोहर लाल शर्मा ने अपनी जनहित याचिका में उन मीडिया रिपोर्टों का हवाला दिया है जिनमें आरोप लगाया गया है कि राफेल सौदा हासिल करने के लिए फ्रांसीसी दासौ कंपनी ने रिलायंस के साथ काम करने की अनिवार्य शर्त को स्वीकार कर लिया।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger