Home » » PM मोदी ने पेकयॉन्ग एयरपोर्ट का किया उद्घाटन, कहा- आम लोगों को होगा फायदा

PM मोदी ने पेकयॉन्ग एयरपोर्ट का किया उद्घाटन, कहा- आम लोगों को होगा फायदा

गंगटोक। सिक्किम राज्‍य को पहला एयरपोर्ट मिल गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकयोंग एयरपोर्ट का उद्घाटन किया। यह देश का 100वां एयरपोर्ट है और इस मौके पर पीएम मोदी ने एक पुस्तिका का भी अनावरण किया। इसके शुरू होने से राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।
इसके बाद एक सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का ये दिन सिक्किम के लिए तो ऐतिहासिक है ही, देश के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। इस एयरपोर्ट के खुलते ही देश में एयरपोर्ट की सेंचुरी यानि शतक लग गया है। अपने पहले और देश के सौवें एयरपोर्ट से जुड़ने पर आप सभी को बहुत-बहुत बधाई। ये एयरपोर्ट आप लोगों के जीवन और आसान करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है।
पेकयॉन्ग एयरपोर्ट इस थका देने वाली दूरी को मिनटों में समेटने वाला है। इससे सफर तो आसान और कम हुआ ही है, सरकार ने ये भी कोशिश की है यहां से आना जाना सामान्य व्यक्ति की पहुंच में भी रहे। इसलिए इस एयरपोर्ट को उड़ान योजना से जोड़ा गया है।
पीएम ने आगे कहा कि सिक्किम को और नॉर्थ ईस्ट में इंफ्रास्ट्रक्चर और इमोशनल, दोनों तरह की कनेक्टिविटी को विस्तार देने का काम तेजी से चल रहा है। मैं खुद नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में विकास की जानकारी लेने कई बार आ चुका हूं। इसका परिणाम क्या हुआ ये भी आप सभी अब जमीन पर देख रहे हैं। सिक्किम हो, अरुणाचल प्रदेश हो, मेघालय हो, मणिपुर, नागालैंड, असम, त्रिपुरा हो, नॉर्थ ईस्ट के सभी राज्यों में बहुत से काम पहली बार हो रहे हैं। हवाई जहाज पहली बार पहुंचे हैं, रेल कनेक्टिविटी पहली बार पहुंची है, कई जगह बिजली पहली बार पहुंची है,
चौड़े नेशनल हाईवे बन रहे हैं, गांव की सड़कें बन रही हैं, नदियों पर बड़े-बड़े पुल बन रहे हैं, डिजिटल इंडिया का विस्तार हो रहा है।
2009 में रखी थी आधारशिला
साल 2009 में इस हवाई अड्डे की आधारशिला रखे जाने के करीब नौ साल बाद सिक्किम को यह हवाईअड्डा मिला है। यह हवाई अड्डा सिक्किम की राजधानी गंगटोक से करीब 33 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और इसके तैयार हो जाने के बाद सिक्किम के साथ देश के अन्य हिस्सों का संपर्क बढ़ जाएगा। 201 एकड़ में फैला यह हवाई अड्डा समुद्र तल से करीब 4,500 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। इसे बनाने में 605.59 करोड़ रुपए की लागत आई है।
यह एयरपोर्ट चीन बॉर्डर से सिर्फ 60 किमी दूर है। यहां से उड़ान भरने वाले एयरफोर्स विमानों को चीन सीमा तक पहुंचने में कुछ ही मिनट का समय लगेगा। यह एयरपोर्ट देश का 100वां वर्किंग एयरपोर्ट होगा। हाल ही में भारतीय वायुसेना का एक डोर्नियर 228 इस हवाई अड्डे पर ट्रायल के तौर पर उतारा गया था।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger