Home » » सुषमा स्वराज के साथ द्विपक्षीय बैठक कर रहे माइक पोंपियो, आज होगी 2+2 वार्ता

सुषमा स्वराज के साथ द्विपक्षीय बैठक कर रहे माइक पोंपियो, आज होगी 2+2 वार्ता

नई दिल्ली। आज नई दिल्ली में भारत और अमेरिका के बीच होने वाली पहली टू प्लस टू वार्ता भारत और पाकिस्तान के आपसी रिश्तों की भावी दिशा भी तय कर सकती है। इससे पहले अमेरिका के विदेश सचिव माइक पोंपियो और सुषमा स्वराज के बीच द्विपक्षीय वार्ता जारी है। इस बैठक के लिए पोंपियो बुधवार रात इस्लामाबाद से दिल्ली पहुंचे।
बता दें कि ट्रंप प्रशासन आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान पर लगातार दबाव बनाये हुए है। लेकिन कई बार उसकी तरफ से यह संकेत भी दिया जा चुका है कि वह भारत व पाकिस्तान के बीच रिश्तों को सुधारने का भी इच्छुक है। कूटनीतिक सूत्रों के मुताबिक अमेरिका व भारत के बीच इस बात को लेकर चिंता है कि पाकिस्तान पूरी तरह से चीन व रूस के बीच पनप रहे गठबंधन का एक अहम हिस्सा न बन जाये।
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो और रक्षा मंत्री जिम मैटिस बुधवार को इस्लामाबाद होते हुए देर रात नई दिल्ली पहुंचे हैं। पाकिस्तान में पोंपियो की प्रधानमंत्री इमरान खान और विदेश मंत्री शाह मेहमूद कुरैशी से बातचीत हुई है। कूटनीतिक सूत्रों के मुताबिक पोंपियो की पाकिस्तानी हुक्मरानों के साथ हुई मुलाकात पर टू प्लस टू वार्ता में चर्चा की जाएगी।
पाकिस्तान के साथ भारत के रिश्ते अमेरिका व भारत के व्यापक रणनीतिक रिश्तों पर भी असर डालेंगे। अमेरिका की चाहत है कि भारत अपनी सैन्य तैयारियों को हिंद-प्रशांत महासागर की चुनौतियों के मद्देनजर तैयार करे जबकि वह यह भी चाहता है कि पाकिस्तान अफगानिस्तान में शांति व वहां के आतंकियों को हराने में ज्यादा से ज्यादा ध्यान दे।
बुधवार को पोंपियो से मुलाकात के बाद विदेश मंत्री कुरैशी ने संवाददाता सम्मेलन में इस बारे में अमेरिकी प्रस्ताव परोक्ष तौर पर उजागर भी किया। कुरैशी ने कहा कि अगर पूर्वी सीमा (भारत के साथ) पर हमारे साथ छेड़छाड़ होगी तो हम पश्चिमी (अफगानिस्तान के साथ) सीमा पर कैसे ज्यादा ध्यान दे सकेंगे?
भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारी भी पूर्व में पाकिस्तान, चीन व रूस के बीच किसी गठबंधन बनने के आसार पर अपनी चिंता जता चुके हैं। भारत व अमेरिका के रिश्ते लगातार प्रगाढ़ होते देख रूस ने इधर कई बार कहा है कि वह पाकिस्तान के साथ सैन्य सहयोग बढ़ाने को तैयार है। कूटनीतिक जानकार लंबी अवधि में इसे भारत के हितों के लिहाज से बहुत अच्छा नहीं मानते हैं। वैसे भी पाकिस्तान में नई सरकार आने के बाद भारत के साथ उसके रिश्तों को लेकर कुछ सुगबुगाहट दिखाई दी है।
पीएम नरेंद्र मोदी ने न सिर्फ इमरान खान से टेलीफोन पर बात की है बल्कि उन्हें एक पत्र भी लिखा जिसमें कहा, "पाकिस्तान के साथ भारत अच्छे रिश्ते बनाने को लेकर वचनबद्ध है। इस क्षेत्र की जनता की भलाई के लिए दोनों देशों के बीच सार्थक व रचनात्मक सहयोग होना चाहिए।"
दूसरी तरफ, पाकिस्तानी पीएम इमरान खान पहले ही कह चुके हैं कि अगर भारत की तरफ से शांति बहाली के लिए एक कदम बढ़ाया जाता है तो वह दो कदम चलने के लिए तैयार हैं। भारत व पाकिस्तान के बीच अंतिम आधिकारिक वार्ता दिसंबर, 2015 में इस्लामाबाद में हुई थी। उसके बाद भारत के पठानकोट सैन्य अड्डे पर पाकिस्तानी आतंकियों के हमले पर भारत ने बाकी वार्ताओं को टाल दिया था।

Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger