Home » » भारत का UAE से 700 करोड़ लेने से इनकार, जानिए क्यों दी थी मदद

भारत का UAE से 700 करोड़ लेने से इनकार, जानिए क्यों दी थी मदद

तिरुवनंतपुरम। केरल में बाढ़ से हुई व्यापक तबाही की तस्वीर सामने आने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने नया केरल बनाने की जरूरत बताई है। समीक्षा बैठक के बाद उन्होंने कहा कि केंद्र से 2600 करोड़ रुपए के पैकेज की मांग की जाएगी। उधर, भारत सरकार ने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की 10 करोड़ डॉलर (करीब 700 करोड़ रुपए) की मदद लेने से विनम्रतापूर्वक इनकार कर दिया है।
सरकार का मानना है कि वो इस आपदा से घरेलु स्तर पर निपट लेगी। बता दें कि इससे पहले भी सरकार ने केदारनाथ आपदा में विदेशी मदद लेने से इनकार किया था।
वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री विजयन ने बताया कि अबुधाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायेद अल नाहयान ने पीएम नरेंद्र मोदी को फोन कर मदद की पेशकश की है। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को कैबिनेट बैठक के बाद बताया कि जल्द ही केंद्र को हालात पर रिपोर्ट भेजकर विशेष पैकेज की मांग जाएगी। इसके लिए धन पहली जरूरत होगी। चूंकि केरल के लोगों ने मध्य-पूर्व देशों में अच्छी सेवा की है, इसलिए वहां के अनिवासी खूब मदद कर रहे हैं। अब तक मुख्यमंत्री राहत कोष में 210 करोड़ रुपए आए हैं और 160 करोड़ और आने वाले हैं।
केरल में सदी की भीषण बाढ़ से भारी तबाही हुई है। 10 लाख लोग बेघर हो गए हैं और 8 अगस्त के बाद से अब तक 223 लोग मारे गए हैं। राज्य के बैंकों ने भी एक साल तक कृषि कर्ज वसूली टालने का फैसला किया है।
कोच्चि एयरपोर्ट को 220 करोड़ की क्षति
बाढ़ के कारण कोच्चि इंटरनेशनल एयरपोर्ट को अनुमानित 220 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। एयरपोर्ट प्रबंधन ने करीब 2.5 किमी लंबी बाउंड्रीवाल के पुनर्निर्माण व अन्य क्षतिग्रस्त बुनियादी सुविधाओं का निर्माण शुरू कर दिया है। रनवे, टैक्सीवे, दुकानें, रनवे लाइट व अन्य उपकरणों को भारी नुकसान पहुंचा है। यह एयरपोर्ट विश्व का पहला सौर ऊर्जा संचालित है, इसके सोलर पावर सिस्टम को भी क्षति पहुंची है। इसे अगले हफ्ते फिर चालू करने की संभावना है। फिलहाल नौसेना के एयरपोर्ट से कुछ उड़ानें शुरू हुई हैं।
हैम रेडियो सर्विस मददगार
केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद में हैम रेडियो सर्विस भी जुटी है। इसके जरिए बाढ़ में घिरे व्यक्ति की अंतिम मोबाइल लोकेशन पता कर बचाव में जुटे अफसरों तक जानकारी भेजी जाती है ताकि फंसे व्यक्ति को निकाला जा सके। केंद्रीय संचार मंत्रालय ने हैम रेडियो को खास रेडियो फ्रीक्वेंसी से सेवाएं संचालित करने का लाइसेंस दिया है। केरल में करीब 300 हैम रेडियो ऑपरेटर 24 घंटे सेवाएं दे रहे हैं। इसके तिरुवनंतपुरम स्थित केंद्र से 16 से 19 अगस्त के बीच जरिए अब तक 1650 लोगों को बचाया गया है।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger