Home » » इस तरह अस्तित्व में आई छत्तीसगढ़ सरकार की टिफिन वितरण योजना

इस तरह अस्तित्व में आई छत्तीसगढ़ सरकार की टिफिन वितरण योजना

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिहं ने शुक्रवार को राज्य में कामगारों को टिफिन वितरण की योजना की शुरूआत की। इस दौरान कार्यक्रम में उन्होंने बताया कि वे पिछले साल ग्राम सुराज अभियान में बिलासपुर जिले के सुदूर अंचल के एक गांव में मनरेगा का काम देखने पहुंचे थे, वहां मजदूर पेड़ की छांव में भोजन कर रहे थे। मजदूर बर्तन में, पोटली और प्लास्टिक में घर से भोजन लेकर आए थे। मुझे भी खाने की इच्छा हुई, एक महिला मजदूर ने अपने टिफिन से मुझे भी दाल-भात और चटनी दी। यहीं मेरे मन में मजदूरों के लिए टिफिन योजना प्रारंभ करने का विचार आया। इस योजना का आज शुभारंभ हो रहा है। टिफिन में मजदूरों के भोजन की सुरक्षा और शुद्घता सुनिश्चित हो सकेगी। स्वच्छ भोजन से बीमारियों से भी मजदूर दूर रहेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा मजदूरों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हैं। मनरेगा में 150 दिन का रोजगार दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री खाद्य सुरक्षा योजना में गरीब परिवारों को एक रूपए में चावल, निःशुल्क नमक और चना दिया जा रहा हैं। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना में प्रदेश के सभी परिवारों के लिए 50 हजार रूपए तक के निःशुल्क इलाज की व्यवस्था की गई है। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की आयुष्मान भारत योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि अब गरीबों को गंभीर बीमारियों के इलाज की चिन्ता करने की जरूरत नहीं है। उन्हें इस योजना में पांच लाख रूपए तक के निःशुल्क इलाज की सुविधा मिलेगी। छत्तीसगढ़ के लगभग 40 लाख गरीब परिवारों को इस योजना का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने वर्ष 2000 में छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण किया। आज 18 वर्षों में छत्तीसगढ़ विकास की लम्बी छलांग लगाने के लिए तैयार है।
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चन्द्राकर ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ देश का अकेला राज्य है, जहां मनरेगा की महिला श्रमिकों को प्रसूति अवकाश दिया जाता है और उनकी इस अवधि की मजदूरी का भुगतान भी किया जाता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा ऐसी व्यवस्था की गई है जिससे प्रदेश के 70 प्रतिशत श्रमिकों को 15 दिनों के अंदर मजदूरी का भुगतान किया जा रहा है। कई बार इसमें कठिनाईयां आती हैं, जिनके समाधान के प्रयास विभाग द्वारा किए जाते है। उन्होंने गरीबों और मजदूरों के लिए संचालित योजनाओं पर प्रकाश डाला। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव आरपी मंडल ने कहा कि टिफिन वितरण योजना मनरेगा के मजदूरों के श्रम के सम्मान की योजना है। इस योजना पर लगभग 20 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। उन्होंने कहा कि अब मजदूर टिफिन में अपना भोजन लाएंगे। कार्यक्रम में अनेक जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में श्रमिक बंधु उपस्थित थे।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger