Home » » 400 से ज्यादा आयुर्वेद छात्रों ने पढ़ाई छोड़ शुरू की हड़ताल, मरीज हुए परेशान

400 से ज्यादा आयुर्वेद छात्रों ने पढ़ाई छोड़ शुरू की हड़ताल, मरीज हुए परेशान

इंदौर। अष्टांग आयुर्वेद कॉलेज के 400 से अधिक विद्यार्थियों ने शनिवार से कॉलेज में पढ़ाई छोड़ हड़ताल कर दी। इससे इंदौर व राऊ स्थित अस्पताल में ओपीडी सीनियर कंसल्टेंट के हवाले रही। नाक, कान, गला, गायनिक, पीडियाट्रिक विभाग और पंचकर्म के मरीज परेशान हुए।
ये विद्यार्थी बीएएमएस व पीजी कोर्स में मिलने वाला स्टायपंड बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। साथ ही इनकी इंदौर में नए चिकित्सालय की व्यवस्था, चिकित्सकों की संख्या बढ़ाने, शवच्छेदन (शव परीक्षण) के लिए शव उपलब्ध कराने की मांग भी है। एक सप्ताह से भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, रीवा व उज्जैन के शासकीय आयुर्वेद कॉलेज में हड़ताल जारी है। सुबह नौ बजे से मध्यप्रदेश आयुर्वेद छात्र संगठन के विद्यार्थी लोकमान्य नगर (केशरबाग रोड) स्थित कॉलेज तो गए लेकिन कक्षाओं में शामिल नहीं हुए। उन्होंने राज्य सरकार के खिलाफ नारे लगाए।
पीजी के लिए जाना पड़ता है बाहर
संगठन के अध्यक्ष (इंदौर) प्रवीण चौरे ने बताया कि बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी के स्टूडेंट्स व पीजी स्टूडेंट्स का सालों से स्टायपंड नहीं बढ़ाया गया, जबकि फीस 17 हजार से बढ़ाकर एक लाख रुपए तक कर दी गई है। बीएएमएस स्टूडेंट्स को 6200 रुपए व पीजी स्टूडेंट्स को 22 हजार रुपए प्रतिमाह स्टायपंड दिया जा रहा है। अन्य राज्यों में यह राशि अधिक है।
इंदौर के शासकीय कॉलेज में पीजी स्टूडेंट्स के लिए सीट नहीं है। पीजी करने भोपाल, उज्जैन व रीवा जाना होता है। इंदौर में पीजी सीट उपलब्ध कराने भी मांग की जा रही है। जब तक मांग पूरी नहीं होती, हड़ताल जारी रहेगी। शासकीय आयुर्वेद कॉलेज इंदौर व राऊ में लगने वाली ओपीडी में रोजाना करीब 300 स्टूडेंट प्रैक्टिस करते हैं। ये सभी हड़ताल में शामिल हुए।
आयुर्वेद चिकित्सकों के पद भरे जाने की मांग 
छात्र संगठन ने मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग के अनुसार आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों के रिक्त पद भरने की मांग भी की। विभागीय मंत्री ने 700 पद भरने का आश्वासन दिया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ। वहीं आयुष विभाग में नए पद स्वीकृत करने को लेकर भी कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger