Home » » 3 लाख रुपए है मासिक वेतन, फिर भी 100 पद हैं खाली

3 लाख रुपए है मासिक वेतन, फिर भी 100 पद हैं खाली

जबलपुर। सरकार 3 लाख रुपए मासिक वेतन देने तैयार है लेकिन सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर्स नहीं मिल रहे। अस्पताल में 100 पदों के लिए विज्ञापन भी जारी कर दिया है लेकिन अभी तक एक भी आवेदन डीन कार्यालय तक नहीं पहुंचा। दरअसल, सरकार का नियम है कि जो भी डॉक्टर्स इस हॉस्पिटल में काम करेगा, वह प्राइवेट प्रैक्टिस नहीं कर सकेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि वह अपनी निजी प्रैक्टिस बंद करके सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में काम नहीं कर सकते। बहरहाल, इसके लिए भवन तो तैयार हो गया लेकिन वहां इलाज कब शुरू होगा खुद अधिकारी भी नहीं जानते।
हॉस्पिटल में यह इलाज होगा
न्यूरोलॉजी- रीढ़, कमर, दिमाग व नसों से संबंधी इलाज।
न्यूरोसर्जरी - रीढ़, कमर, दिमाग में ट्यूमर से संबंधित आपरेशन।
नेफ्रोलॉजी - किडनी, डायलिसिस, किडनी ट्रान्सप्लांट।
यूरोलॉजी - यूरिन रोग, पथरी, प्रोस्टेट के आपरेशन।
नियोनेटोलॉजी - जन्म से 28 दिन के शिशुओं का इलाज और आपरेशन।
कार्डियोलॉजी - हृदय रोग का इलाज व जांच। ईको,एन्जियोग्राफी, एन्जियोप्लास्टी, टीएमटी।
कार्डिएक सर्जरी - हृदय की ओपन हार्ट सर्जरी।
इतने पद भरने हैं
प्रोफेसर- 25
एसोसिएट प्रोफेसर- 25
असिस्टेंट प्रोफेसर- 50
पदों की भर्ती के लिए अंतिम तिथि 30 अगस्त है। विशेषज्ञों की भर्ती के बाद, नर्सिंग स्टाफ की भर्ती की जाना है। उच्च पदों के लिए विशेषज्ञ मिलना कुछ मुश्किल हो रहा है। अस्पताल कब से शुरू होगा यह अभी कहना मुश्किल है। डॉ. वायआर यादव, डायरेक्टर
पदों की भर्ती के लिए यदि आवेदन नहीं आते हैं तो आवेदन की तारीख बढ़ा दी जाएगी।
डॉ. नवनीत सक्सेना, डीन, मेडिकल कॉलेज
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger