Home » » जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खां पर और कसेगा शिकंजा

जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खां पर और कसेगा शिकंजा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की सपा सरकार के पूर्व मंत्री आजम खां की मुश्किलें जल्द और बढ़ने वाली हैं। जल निगम भर्ती घोटाले के मामले में विशेष अनुसंधान दल (एसआइटी) ने आजम खां सहित अन्य के खिलाफ दर्ज मुकदमे की विवेचना तेज कर दी है।
एसआइटी ने करीब 13 गवाहों को नोटिस भेजे हैं और जल्द उनके बयान दर्ज किए जाएंगे। अगली कड़ी में एसआइटी आजम सहित अन्य नामजद आरोपितों से पूछताछ करेगी। जल्द आरोपपत्र दाखिल करने की भी तैयारी है।
जल निगम भर्ती घोटाले की जांच रिपोर्ट पर शासन ने एसआइटी को एफआइआर दर्ज किए जाने की अनुमति दी थी। एसआइटी ने मामले में 25 अप्रैल को पूर्व मंत्री आजम खां, जल निगम के तत्कालीन एमडी पीके आसूदानी,
नगर विकास विभाग के पूर्व सचिव एसपी सिंह (अब सेवानिवृत्त), पूर्व मंत्री के तत्कालीन ओएसडी सैय्यद आफाक अहमद, तत्कालीन चीफ इंजीनियर अनिल कुमार खरे सहित अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।
यह मुकदमा एसआइटी के इंस्पेक्टर अटल बिहारी की ओर से गबन, धोखाधड़ी, षड्यंत्र, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम सहित अन्य धाराओं में दर्ज कराया गया है।
सूत्रों के मुताबिक एसआइटी ने भर्ती प्रकिया से जुड़े अभिलेखों की छानबीन तेज कर दी है। साथ ही शिकायतकर्ता राम सेवक शुक्ला के अलावा राजीव निगम, अनिल कुमार गुप्ता, राकेश प्रसाद सिन्हा, ज्ञानेंद्र स्वरूप श्रीवास्तव,
ओम प्रकाश अस्थाना, अजय पाल व अनूप कुमार सहित अन्य गवाहों को नोटिस भेजा गया है। गवाहों के बयान दर्ज करने के बाद नामजद आरोपितों से भी सिलसिलेवार पूछताछ कर उनके बयान भी दर्ज किए जाएंगे। एसआइटी के हाथ विवेचना के दौरान भी घोटाले से जुड़े कई अहम साक्ष्य लगे हैं।
1300 पदों पर भर्तियों में हुई थी अनियमितता
जल निगम में सपा शासनकाल में 1300 पदों पर भर्तियों में अनियमितता की बात सामने आई है। एसआइटी जांच में भर्ती प्रकिया से जुड़ी किसी पत्रावली में एसपी सिंह के हस्ताक्षर नहीं पाए गए थे। पूर्व मंत्री आजम खां को भर्ती पत्रावलियों पर हस्ताक्षर करने का अधिकार नहीं था। नियमों को दरकिनार कर भर्ती प्रकिया को पूरा किया गया था।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger