Home » » सीप नदी के उफान में टापू पर फंसे पांच ग्रामीण, पार्वती नदी खतरे के निशान से ऊपर

सीप नदी के उफान में टापू पर फंसे पांच ग्रामीण, पार्वती नदी खतरे के निशान से ऊपर

श्योपुर। लगातार हो रही बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं। सीप नदी में आए उफान के कारण मानपुर गांव में एक बालिका सहित पांच ग्रामीण नदी के बीच टापूओं पर फंस गए थे। उधर पार्वती नदी खतरे के निशान को लांघ गई है। नदी, नालों में आए उफान के कारण हाइवे सहित कई रास्ते बंद हो गए हैं। श्योपुर में मौसम विभाग ने 30 मिलीमीटर बारिश दर्ज की। इसी के साथ बारिश का आंकड़ा 452 मिमी पहुंच गया।
रात में हुई बारिश के बाद नदियों का जलस्तर बढ़ना शुरू हो गया। मानपुर के बालापुरा गांव में सीप नदी के बीच मवेशी चरा रहे देवीराम (60) पुत्र नाथूलाल बैरवा, रामघड़ी (11) पुत्री घनश्याम बैरवा, बाबू (50) पुत्र मदन आदिवासी, रामा (48) पुत्र गुलाब आदिवासी और कमलेश (35) पुत्र इन्द्र आदिवासी बीच नदी में फंस गए।
देवीराम और रामघड़ी बैरवा एक टापू पर तो दूसरे टापू पर बाबू, रामा व कमलेश आदिवासी फंसे हुए थे। सुबह 10 बजे से फंसे ग्रामीणों की सूचना दोपहर 12 बजे जैसे ही प्रभारी कलेक्टर ऋषि गर्ग को मिली तो उन्होंने आपदा प्रबंधन की टीम के साथ मानपुर थाने की पुलिस को मौके पर भेजा।
दोपहर 1 बजे से ग्रामीणों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ। ग्रामीणों की मदद से ढाई घंटे में एक टापू पर फंसे देवीराम व रामघड़ी को बचाया। खबर लिखे जाने शाम 05 बजे तक दूसरे टापू पर फंसे तीन अन्य ग्रामीणों को बचाने के लिए रेस्क्यू टीम अपनी कार्रवाई में लगी थी। देर शाम इन सबको सुरक्षित निकाल लिया गया।
कोटा, बूंदी, बारा शहर का संपर्क कटा
मालवा क्षेत्र में हो रही झमाझम बारिश के कारण पार्वदी नदी में ऐसा उफान आया कि, नदी में खतरे का निशान ही डूब गया। पार्वती नदी के उफान के कारण खातौली पुल पर 15 फीट से ज्यादा पानी हो गया। उधर बड़ौदा क्षेत्र में कुहांजापुर पुल भी पार्वती नदी के उफान में डूब गया।
खातौली पुल के डूबने से राजस्थान के कोटा, बूंदी का तो कुहांजापुर पुल डूबने से बारा, मागरौल आदि शहरों का संपर्क श्योपुर से कट गया है। उधर अमराल नदी में आए उफान से सोंई क्षेत्र में ज्वालापुर-भीकापुर गांव की पुलिया डूब गई जिससे 12 से ज्यादा गांव का संपर्क जिला मुख्यालय से कट गया है। सेसईपुरा के पास कूनो नदी का पुल भी पानी में डूबते-डूबते बचा। नदी का पानी पुल के बराबर आया तो कुछ देर तक श्योपुर-शिवपुरी हाईवे पर ट्रैफिक बंद हो गया।
अहेली में लकड़ी के साथ बहकर आया युवक, बचाया
बड़ौदा की अहेली नदी में एक युवक सूखे हुए पेड़ के साथ बहता आया। नदी में बह रहा युवक मदद के लिए चिल्लाता जा रहा था। राधापुरा गांव के ग्रामीणों की नजर उक्त युवक पर पड़ी। उसके बाद बड़ौदिया बिंदी के पास ग्रामीणों ने उक्त युवक को रस्सा फेंककर लकड़ी के साथ नदी से बाहर निकाला।
उक्त युवक ने अपना नाम बंशीलाल मीणा निवासी राजस्थान के असनावर गांव का बताया और कहा कि, वह नदी के बीच घिर गया। पानी बढ़ा तो नदी में बहकर आ रहे सूखे पेड़ को पकड़ा और उस पर सवार हो गया। उक्त युवक राजस्थान से करीब साढ़े चार किलोमीटर दूर बहकर बड़ौदा क्षेत्र में आ गया।
आवदा फुल, रात में लांघ देगा पार
दो दिन से जंगल में हो रही तेज बारिश से सीप नदी में उफान है। आवदा डैम मंगलवार की शाम 4 बजे ही फुल हो गया। पानी डैम की पार के समतल हो चुका था। सिंचाई विभाग के अफसरों के अनुसार रात 7 से 8 बजे तक आवदा डैम ओवर फ्लो हो जाएगा।
गौरतलब है कि, दो साल बाद आवदा डैम पूरा भरा है। पिछले साल कम बारिश के कारण यह डैम आधा भी नहीं भर पाया था। उधर अपर ककैटा डैम अभी भी करीब 4 मीटर खाली है। श्योपुर की तुलना में विजयपुर क्षेत्र में कम बारिश के कारण वहां के डैम व बांध फिलहाल खाली हैं।
शहर की कई बस्तियों में भरा पानी
बारिश से श्योपुर शहर की कई बस्तियाें से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में परेशानी हो गई है। श्योपुर की चंबल कॉलोनी के कई घरों में पानी भर गया। कलेक्टोरेट के पीछे बसी आनंद नगर कॉलोनी में भी इतना पानी भरा कि, आदिम जाति कल्याण विभाग के सहायक आयुक्त् सहित कई अफसर व कर्मचारियों के घरों में पानी भर गया। आनंद नगर से सटी चैनपुरा आदिवासी बस्ती में भी कई घर जलमग्न हो गए हैं। कुहांजापुर गांव में एक कच्चा घर बारिश से ढह गया जिसमें घनश्याम शर्मा व उनकी 16 साल की बेटी प्रेमलता घायल हो गई।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger