Home » » भय्यू महाराज ने बीन बैग पर बैठकर खुद को कैसे मारी गोली?

भय्यू महाराज ने बीन बैग पर बैठकर खुद को कैसे मारी गोली?

इंदौर । भय्यू महाराज आत्महत्या केस में पुलिस 85 प्रतिशत जांच पूर्ण कर चुकी है। इसमें आत्महत्या के पीछे पारिवारिक कलह ही सामने आया है। पुलिस आर्थिक स्थिति की भी छानबीन कर रही है। इसके लिए सीए को तलब किया गया है। भय्यू महाराज की कॉल डिटेल में भी सीए के नंबर मिले थे। उधर, फॉरेंसिक विभाग की टीम ने भय्यू महाराज के सिल्वर स्प्रिंग स्थित घर पहुंचकर बारीकी से छानबीन की।
टीम ने घटना का नाट्य रूपांतरण कर देखा कि उन्होंने बीन बैग पर बैठकर किस तरह खुद को गोली मारी होगी। एफएसएल और पुलिस अफसरों की टीम ने लगातार दो दिन वैज्ञानिक तरीके से छानबीन की। टीम के सदस्यों ने जिस कमरे में भय्यू महाराज ने आत्महत्या की वहां बारीकी से छानबीन करने के साथ ही उनके कमरे में भी पड़ताल की। टीम के सदस्य ने उस बीन बैग पर बैठकर आत्महत्या की घटना का नाट्यरूपांतरण भी किया। फॉरेंसिक टीम को जांच में पता चला कि गोली दीवार से टकराकर फर्श पर गिरी थी। पुलिस के मुताबिक पीएम रिपोर्ट भी मिल चुकी है। फिर भी जांच के लिए बिसरा सागर लैब भेजा गया है।
सीए से पूछताछ के बाद बाहर आएगा आर्थिक स्थिति का सच -
डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के मुताबिक भय्यू महाराज ने गत मंगलवार को सिल्वर स्प्रिंग स्थित निवास पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। पुलिस को जानकारी मिली थी कि महाराज की आर्थिक स्थिति कमजोर हो चुकी थी। कुछ दिन पूर्व 10 लाख रुपए का कर्ज भी लिया था। उन्होंने 20 लाख रुपए में ऑडी कार का सौदा भी किया था। बेटी कुहू के लिए खरीदी मस्टंग कार बेचने का प्रयास कर रहे थे। बेटी को लंदन भेजने के लिए आने वाले खर्च को लेकर भी चिंतित थे। मकान और कारों की किस्तें भी भरना पड़ती थीं। इन सब बातों की छानबीन भी की जा रही है।
पुलिस ने सीए प्रमोद चोपड़ा (शिक्षक नगर) को तलब किया है। चोपड़ा ने पुलिस को फोन पर बताया कि वे धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने राजस्थान आए हैं। पांच दिन बाद पुलिस के समक्ष पेश होंगे। जांच अधिकारी मनोज रत्नाकर (सीएसपी) के मुताबिक अभी तक सेवादार, नौकर, ड्राइवर, परिजन व वकील से पूछताछ हुई है। पुलिस उन सेवादारों की पत्नियों से भी पूछताछ करेगी जो बंगले पर आती-जाती थीं। कुछ महिलाएं कुहू और डॉ. आयुषी के संपर्क में थीं। उनसे भी विवाद की जानकारी ली जाएगी।
दोबारा सबूतों की खोज -
टीम ने भय्यू महाराज और कुहू के कमरों में छानबीन के अलावा वैज्ञानिक तरीके से भी पड़ताल की। किसी और के फिंगर प्रिंट की जांच के लिए घंटो दीवार, रैक, दरवाजों और अन्य स्थानों की जांच अधिकारी करते रहे।
केस डायरी -
7 दिन की जांच, 20 लोगों से पूछताछ -
तेजाजी नगर पुलिस ने सात दिन की जांच के दौरान 20 से ज्यादा लोगों के बयान लिए हैं।
मंगलवार को सुसाइड नोट की जांच के लिए हैंड राइटिंग के नमूने जुटाकर एक्सपर्ट को भेज दिए।
जिस रिवॉल्वर से गोली मारी, उसकी जांच करवाई जा रही है।
जिस रूम में गोली मारी, उसका मौका नक्शा तैयार किया गया।
'भय्यू महाराज के पास थे नर्मदा घोटाले के दस्तावेज" -
भय्यू महाराज की मौत के मामले में अब राजनैतिक रंग चढ़ने लगा है। सोमवार को करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भय्यू महाराज के पास नर्मदा किनारे लगाए गए पौधों के घोटाले के दस्तावेज थे। इस कारण उनकी हत्या की गई है। उन्होंने कहा, आध्यात्मिक संत ने आत्महत्या नहीं की बल्कि साजिश रचकर उनकी हत्या की गई है। उनके पास नर्मदा घोटाले के जो दस्तावेज थे उससे प्रदेश सरकार घबराई हुई थी। करणी सेना केंद्रीय गृह मंत्री से मिलकर सीबीआई जांच की मांग करेगी। इससे पहले सिंह भय्यू महाराज के स्कीम-74 स्थित निवास पर गए थे।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger