Home » » आसाराम को दोषी ठहराए जाने के बाद बोले पीड़िता के पिता- मिला इंसाफ

आसाराम को दोषी ठहराए जाने के बाद बोले पीड़िता के पिता- मिला इंसाफ

शाहजहांपुर। बेशक, यौन शोषण की घटना के 15 दिन बाद ही कथावाचक आसाराम को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया गया था। वह 4 साल 7 माह 24 दिन से जेल में है लेकिन, न्याय की इस जंग में बहादुर बेटी के लिए उसका घर ही जेल बन गया। बुधवार को बिटिया समेत पूरे परिवार की निगाहें अदालत के फैसले पर टिकी थीं और जैसे ही फैसला आया उनके चेहरे पर राहत नजर आई।
फैसले के बाद पीड़िता के पिता ने कहा कि आसाराम दोषी ठहराया गया है, हमें न्याय मिल गया। मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहूंगा जो इस लड़ाई में हमारे साथ थे। अब मुझे उम्मीद है कि अब सख्त सजा दी जाएगी। मुझे यह भी उम्मीद है कि जो गवाह मारे गए उन्हें भी न्याय मिलेगा।
गौरतलब है कि जोधपुर के मणाई आश्रम में 15 अगस्त 2013 को आसाराम ने नाबालिग का यौन शोषण किया था। उस दिन से बेटी आज तक खुली हवा में नहीं निकल सकी। किशोरावस्था में ही कड़े संघर्ष से जूझना पड़ा लेकिन, डरकर चुप नहीं बैठी। उसने "गुरु भगवान" के रूप में राक्षस बनकर सामने आए आसाराम को सजा दिलाने की ठान ली और संघर्ष जारी रखा। घटना के बाद हर पल खतरा मंडरा रहा था। "दाग" भी ऐसा कि दुनिया का सामना करना मुश्किल। आसाराम के गुर्गों से खतरा अलग। ऐसे में घर ही बिटिया का संसार बन गया।
मम्मी पापा के प्रोत्साहन और छोटे भाई के साथ खेल से धीरे- धीरे स्थिति सामान्य हुई। समझदार होने पर बेटी ने इंटरनेट को अपना गुरु बना लिया। टीवी की न्यूज व सीरियल से ही देश-दुनिया को देखना शुरू कर दिया।
न्याय की उम्मीद पीड़िता के पिता न्यायपालिका के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हैं। बोले, उनका पक्ष अच्छे से सुना गया। बहादुर बेटी का संघर्ष बेकार नहीं जाएगा। यह न्याय अकेले उनकी बेटी के लिए नहीं, देश की सभी बेटियों के लिए होगा।
जेल में फैसला सुनाए जाने के कुछ उदाहरण
1. पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी के हत्यारों बेअंत सिंह और सतवंत सिंह को तिहाड़ जेल में ही फैसला सुनाया गया था।
2. ऑर्थर रोड जेल में आतंकी अजमल कसाब व सुनारिया जेल में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम-रहीम को फैसला सुनाया गया था।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger