Home » » ट्रंप ने भारत-चीन को दी चेतावनी, टैक्स कम नहीं किया तो उठाएंगे ये कदम

ट्रंप ने भारत-चीन को दी चेतावनी, टैक्स कम नहीं किया तो उठाएंगे ये कदम

वाशिंगटन। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएसए) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आखिरकार अमेरिका में स्टील पर 25 फीसद और एल्यूमीनियम पर 10 फीसद आयात पर शुल्क लगाने वाले कानून पर हस्ताक्षर कर ग्लोबल ट्रेड वार की औपचारिक शुरुआत कर दी।
कनाडा और मैक्सिको को 15 दिनों में अमल में आ जाने वाले इस नए कानून के दायरे से बाहर रखा गया है।अमेरिका ने यह भी धमकी दी है कि अगर किसी देश ने अमेरिकी कदम का जवाब देने की जुर्रत की, तो उस पर 'वास्तविक कर' यानी उस देश में अमेरिकी स्टील उत्पादों पर लगने वाले आयात शुल्क के बराबर शुल्क लगाया जाएगा।
इसलिए उठाया ट्रंप ने कदम-
ट्रंप ने कहा है कि, 'घरेलू उद्योग जगत फिलहाल 'अनुचित' कारोबारी गतिविधियों का सामना कर रहा है और उन्हें बचाने के लिए यह कदम जरूरी है। उन्होंने कहा, 'स्टील किसी भी देश के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। अगर स्टील नहीं होगा, तो देश नहीं बचेगा। वर्षों से हमारे उद्योगों को निशाना बनाया जाता रहा है और हमारे यहां मिलें बंद हो रही हैं और कामगार बेरोजगार हो रहे हैं। हमें अपने उद्योगों को बचाना होगा।'
अमेरिका के गुस्से की ये है वजह-
वर्तमान में दुनियाभर से अमेरिका को किए जा रहे स्टील और एल्यूमीनियम निर्यात पर अमेरिका में नाम मात्र को आयात शुल्क लगता है, जिसकी मात्रा ज्यादातर मामलों में पांच फीसद से भी कम है। दूसरी तरफ भारत, चीन और कई अन्य देशों में अमेरिकी स्टील और एल्यूमीनियम उत्पादों पर 75 फीसद तक आयात शुल्क लगाए जा रहे हैं। जवाबी कर की चेतावनी अमेरिका ने कहा है कि अगर भारत ने अमेरिकी हार्ले डेविडसन बाइक पर 50 फीसद आयात शुल्क लगाया, तो अमेरिका भी भारत से आयातित बाइक पर आयात शुल्क बढ़ाकर 50 फीसद कर देगा, जो अभी बिलकुल फ्री है।
यही मामला चीन के साथ है, जो अमेरिका से आयातित कारों पर 25 फीसद टैक्स लगाता रहा है, जबकि अमेरिका सिर्फ 2.5 फीसद आयात शुल्क लगाता है। हालांकि ट्रंप ने मित्र देशों के लिए दोस्ताना रवैये के संकेत भी दिए हैं। इसके साथ ही जो देश इस कानून के दायरे बाहर रहना चाहते हैं, उन्हें अमेरिकी कारोबार प्रतिनिधियों (यूएसटीआर) के साथ सौदेबाजी करनी होगी।
भारत पर पड़ सकता है इसका असर-
भारतीय उद्योग व व्यापार जगत समेत सरकारी स्तर पर भी ट्रंप के इस फैसले का मूल्यांकन किया जा रहा है। भारत पर इस फैसले का एक सीधा असर यह होगा कि अमेरिका में आयात शुल्क बढ़ने के बाद स्टील, एल्यूमीनियम और इससे जुड़े उत्पादों के सभी निर्यातक देश अब अमेरिका के बदले भारतीय बाजार का रुख करेंगे। इससे भारतीय स्टील कंपनियों पर बुरा असर पड़ने की संभावना है।
भारतीय स्टील कंपनियां पहले से ही मांग से ज्यादा उत्पादन कर रही हैं। ऐसे में स्टील आयात पर प्रतिबंध नहीं होने की हालत में घरेलू कंपनियों की वित्तीय हालत खराब होने की संभावना है।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger