Madhya Pradesh Tourism

Home » » अफगान राष्ट्रपति गनी ने पाक पीएम का नहीं उठाया फोन, मोदी से की लंबी बात

अफगान राष्ट्रपति गनी ने पाक पीएम का नहीं उठाया फोन, मोदी से की लंबी बात

काबुल। आतंकी हमलों से जूझ रहे अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने बुधवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी को बड़ा झटका दिया। उन्होंने हालिया आतंकी हमलों पर संवेदना व्यक्त करने के लिए फोन किया था लेकिन गनी ने फोन पर बात करने से मना कर दिया। इसके बजाय उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर आतंकी पनाहगाहों को खत्म करने की जरूरत पर चर्चा की।
राष्ट्रपति गनी ने खुद ट्वीट कर बताया, 'प्रधानमंत्री मोदी ने मानवता के दुश्मनों द्वारा किए गए हमलों में मारे गए नागरिकों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए फोन किया था। पाकिस्तान का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि हमारे पड़ोस में आतंकी पनाहगाहों को खत्म करने की आवश्यकता है। भारत हमेशा से अफगानियों का अच्छा दोस्त और हमारी दुख-तकलीफों का साझीदार रहा है।'
अफगान मीडिया के अनुसार, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री अब्बासी ने संवेदना व्यक्त करने के लिए जब फोन किया तो गनी ने उनसे बात नहीं की। टोलो न्यूज के अनुसार, अब्बासी ने अफगानिस्तान में हालिया आतंकी हमलों को लेकर फोन किया था। अफगानिस्तान कई बार पाकिस्तान पर आतंकी संगठनों का समर्थन करने का आरोप लगा चुका है। अफगानिस्तान में इन आतंकियों के हमलों में सैकड़ों लोग मारे जा चुके हैं।
तालिबान आतंकी सौंपने का पाकिस्तान का दावा खारिज किया-
अफगानिस्तान ने पिछले साल तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के 27 आतंकी सौंपने के पाकिस्तान के दावे को खारिज कर दिया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मुहम्मद फैसल ने मंगलवार को ट्वीट कर दावा किया था कि पिछले साल नवंबर में पाकिस्तान ने तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के 27 संदिग्ध आतंकी अफगानिस्तान को सौंपे थे।
इस पर बुधवार को अफगान सरकार के एक सूत्र ने कहा कि पाकिस्तान ने पिछले साल इन आतंकी संगठनों के एक भी सदस्य को नहीं सौंपा था।
इस्लामाबाद पहुंचे अफगान विदेश मंत्री, खुफिया प्रमुख-
काबुल में हालिया आतंकी हमलों के बाद अफगानिस्तान के खुफिया प्रमुख और विदेश मंत्री बुधवार को पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद पहुंचे। अफगानिस्तान का कहना है कि काबुल में अंजाम दिए गए कुछ आतंकी हमलों का संबंध पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ से है।
माना जा रहा है कि इससे जुड़े सबूत पाकिस्तान सेना के साथ साझा किए जाएंगे। एक दिन पहले ही संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि ने दावा किया था कि काबुल के इंटरकॉन्टिनेंटल होटल पर हुए हमले में शामिल एक आतंकी को आइएसआइ ने प्रशिक्षित किया था।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger