Home » » बालाघाट में पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, 25 से अधिक मजदूरों के चीथड़े उड़े, 12 घायल

बालाघाट में पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, 25 से अधिक मजदूरों के चीथड़े उड़े, 12 घायल

बालाघाट। बालाघाट से 7 किमी दूर खैरी गांव के बाहर स्थित पटाखा फैक्ट्री में बुधवार की दोपहर करीब 3.30 बजे भीषण विस्फोट हो गया। विस्फोट से पूरी फैक्ट्री उड़ गई। अंदर काम कर रहे मजदूरों के अंग 100 मीटर दूर तक फैल गए। पटाखा बना रहे 25 लोगों से अधिक लोगों मौत हो गई।
अधिकतर की मौत बारूद में जलने की वजह से हुई। देर शाम तक 23 शव अंदर से निकाले जा चुके थे। शव इतनी बुरी तरह से जल गए थे कि उनकी पहचान करना मुश्किल है। घटना में 12 मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए हैं इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। झाबुआ जिले के पेटलावद में 2015 में हुए ब्लास्ट के बाद प्रदेश का यह दूसरा बड़ा हादसा है।
लोग धूं-धूंकर जलते रहे 
धमाकों की गूंज 5 किमी तक लोगों को सुनाई दी। सूचना पर मौके पर पहुंचे प्रशासन ने राहत कार्य शुरू किया। वहीं फैक्ट्री तक पहुंचने के लिए मार्ग नहीं होने पर आधा घंटे तक दमकल वाहन फंसा रहा और मजदूर धूं-धूंकर जलते रहे। इस हादसे का कारण फिलहाल पता नहीं चल पाया है। 
फैक्ट्री के अंदर थे 40 से अधिक मजदूर
जब धमाका हुआ उस समय फैक्ट्री के अंदर 40 से अधिक मजदूर मौजूद रहे। फैक्ट्री में भरवेली, भटेरा और आंवलाझरी, कुम्हारी, खैरी गांव के मजदूर यहां काम कर रहे थे। इनमें से 25 से अधिक की मौत हो जाने की बात कही जा रही है। ये मजदूर अपने काम में व्यस्त रहे तभी अचानक दोपहर को धमाका हो गया। 
तीन घंटे में निकाले 23 शव
मौके पर पहुंचे प्रशासनिक व सुरक्षा अमले ने तीन घंटे में 23 शव बरामद किए। जबकि 12 घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है। जिनकी हालत गंभीर बनी हुई है। 
दीवार तोड़कर कर रहे शवों की तलाश
तीन घंटे की मशक्कत के बाद राहत कार्य में लगे प्रशासनिक और सुरक्षा अमले ने 23 शव बरामद कर दीवार तोड़कर शवों की तलाश शुरू कर दी है, इस दौरान गंभीर हालत में आधा दर्जन घायल दीवार तोड़ने से निकाले जा सके। 
2 साल से संचालित थी फैक्ट्री 
खैरी में रिहायशी इलाके से करीब 3 किमी दूर जंगल में दो साल से भटेरा निवासी वाहिद पिता समीर अहमद वारसी पटाखा फैक्ट्री संचालित कर रहा था। इसके पास 50 किलो विस्फोटक रखने का लायसेंस था। बारूद रखने का लायसेंस सितंबर माह में रिन्युवल हुआ था। 
मृतकों के परिजनों को आर्थिक मदद
फैक्ट्री में ब्लास्ट से मृत हुए मजदूरों के परिजनों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दो-दो लाख रुपए की सहायता देने की घोषणा की है। वहीं रेडक्रास सोसायटी ने 20-20 हजार रुपए देने की घोषणा की है। जबकि कृषि मंत्री गौरी शंकर बिसेन ने 10-10 हजार देने की घोष्ाणा की है। 
दो साल में दूसरा हादसा
13 मई 2015 को जिले के किरनापुर तहसील मुख्यालय में पटाखा फैक्ट्री में हुए ब्लास्ट में दो मजदूरों की जान गई थी, 18 घंटे तक फैक्ट्री सुलगती रही। ब्लास्ट से आसपास के घरों की दीवारों में दरारें आ गई थी।
Share This News :
 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger