दुबई-मुंबई भारत का व्यस्ततम अंतरराष्ट्रीय हवाई रूट, 25 लाख यात्रियों ने किया सफर

Sunday, June 24, 2018

नई दिल्ली। वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान दुबई-मुंबई एयर सेक्टर व्यस्ततम अंतरराष्ट्रीय हवाई रूट रहा। नागरिक उड्डयन मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, इस रूट पर 25 लाख यात्रियों ने सफर किया। भारत शहरों को अंतरराष्ट्रीय गंतव्यों से जोड़ने वाले टॉप 10 रूट की सूची में दुबई-मुंबई को सबसे ऊपर रखा गया। इनमें घरेलू और विदेशी सभी एयरलाइंस की उड़ान शामिल हैं।
दूसरे स्थान पर दुबई-दिल्ली रूट रहा। इस रूट पर बीते वित्त वर्ष के दौरान करीब 20 लाख यात्रियों ने सफर किया। 10 लाख से कुछ अधिक यात्रियों के साथ दुबई-कोच्चि रूट तीसरे स्थान पर रहा। बैंकॉक जाने वाले यात्रियों की तादाद भी बढ़ी है।
करीब 10 लाख यात्रियों के साथ दिल्ली-बैंकॉक रूट सूची में चौथे स्थान पर रहा। पांचवें और छठे स्थान पर क्रमशः दुबई-हैदराबाद और लंदन-दिल्ली रूट रहे। आंकड़ों के मुताबिक, लंदन-मुंबई, दुबई-चेन्नई, सिंगापुर-चेन्नई और कोलंबो-चेन्नई रूट भी क्रमशः सूची में शामिल रहे।
भारत के विभिन्न शहरों से अंतरराष्ट्रीय उड़ान भरने के मामले में सबसे ज्यादा यात्री दुबई गए। आंकड़ों के मुताबिक, इनमें से करीब आधे यात्रियों का गंतव्य दुबई रहा। इनमें प्रवासी कामगारों और अन्य कारोबारियों की बड़ी संख्या रही। डोमेस्टिक सेक्टर में मुंबई-दिल्ली को एशिया प्रशांत क्षेत्र में व्यस्ततम रूट पाया गया।
पिछले वित्त वर्ष के दौरान इस रूट पर 70 लाख लोगों ने सफर किया। 40 लाख से अधिक यात्रियों के साथ बेंगलुरु-दिल्ली दूसरे और 40 लाख से कुछ कम यात्रियों के साथ बेंगलुरु-मुंबई रूट तीसरे स्थान पर रहा।

Continue Reading | comments

सुरक्षाबलों व आतंकी समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें,13 घायल

श्रीनगर। उत्तरी कश्मीर के हाजिन और दक्षिण कश्मीर के शोपियां में शनिवार को कासो (आतंकियों की धरपकड़ के लिए घेराबंदी कर ली जाने वाली तलाशी) के दौरान सुरक्षाबलों और आतंकी समर्थकों के बीच हुई हिंसक झड़पों में 13 लोग घायल हो गए। वहीं सोपोर और पुलवामा में भी कासो चलाया गया, लेकिन वहां स्थिति शांत रही।
शोपियां जिले के दारमडोरा गांव में तीन आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर सेना, पुलिस और सीआरपीएफ के संयुक्त कार्यदल ने कासो चलाया। जवानों को गांव में देखकर स्थानीय युवक भड़क उठे। जवानों ने जब घेराबंदी करते हुए संदिग्ध मकान की तरफ बढ़ने का प्रयास किया तो आतंकी समर्थकों ने पथराव शुरू कर दिया। कुछ ने जवानों से हथियार भी छीनने का प्रयास किया। स्थिति बिगड़ते देख जवानों ने हिंसक तत्वों को खदेड़ने के लिए बल प्रयोग किया। इसके बाद वहां पत्थरबाजों और सुरक्षाबलों के बीच झड़पें तेज हो गई।
बताया जाता है कि इसी दौरान आतंकी कथित तौर पर जवानों पर फायरिग करते हुए भाग निकले। हिंसक झड़पों के दौरान आठ लोग जख्मी हो गए। इसी दौरान जिला बांडीपोर के अंतर्गत हाजिन कस्बे के तौहीदाबाद इलाके में सुरक्षाबलों ने लश्कर के आतंकियों के एक मकान में छिपे होने की सूचना पर जैसे ही कासो शुरू किया तो आतंकी समर्थकों ने पथराव शुरू कर दिया। उन्हें खदेड़ने के लिए सुरक्षाबलों को लाठियों, आंसूगैस और पैलेट गन का सहारा लेना पड़ा। हिंसक झड़पों में पांच लोग घायल हो गए।
Continue Reading | comments

मुंडका-बहादुरगढ़ मेट्रो लाइन का पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये किया उद्घाटन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 जून रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (वीसी) के जरिये मुंडका-बहादुरगढ़ मेट्रो लाइन जनता को समर्पित किया। गुरुग्राम व फरीदाबाद के बाद मेट्रो से जुड़ने वाला बहादुरगढ़ हरियाणा का तीसरा शहर बन गया है। आज शाम चार बजे से इस लाइन पर मेट्रो सेवा आम जनता के लिए शुरू हो जाएगी।
वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दिए गए अपने उद्घाटन भाषण में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मेट्रो के शुरू होने से बहादुरगढ़ में औद्योगिक विकास को बल मिलेगा। पीएम ने कहा कि पहले मेट्रो के लिए ठोस नीति नहीं थी। सरकारों और नेताओं की मर्जी के कारण इसमें विखराव था। 2017 में देश की पहली मेट्रो पॉलिसी बनाई है। उन्होंने कहा उनकी सरकार देश के नागरिकों को सुशासित व्यवस्था देने पर काम कर रही है। नए भारत में सभी यातायात साधनों, बिजली पर अत्यधिक खर्च करके सारे प्रोजेक्ट पूरे किए जा रहे हैं।
देश के ट्रांसपोर्ट सिस्टम से प्रगति होगी, 21वीं सदी में व्यवस्था मजबूत होगी। इससे लोगों का जीवन आसान होगा। उन्होंने कहा कि सरकार के इन प्रयासों में आमजन की भागीदारी आवश्यक है। नए भारत के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे। उन्होंने बहादुरगढ़ में मेट्रो सेवा शुरू होने पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल को बधाई दी।उद्घाटन कार्यक्रम बहादुरगढ़ के सिटी पार्क मेट्रो स्टेशन पर आयोजित किया गया, जिसमें हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल, केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी सहित कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ और विधायक नरेश कौशिक उपस्थित रहे। 11.183 किमी लंबी यह मेट्रो लाइन ग्रीन लाइन का विस्तार है। हरियाणा में बहादुरगढ़ शहर का मेट्रो से जुड़ाव होने के बाद यातायात की सुगम राह लोगों के लिए खुल गई है।
इस लाइन की डेडलाइन शुरू में मार्च 2016 थी, मगर अब जाकर यह पूरी हो पाई है। सिटी पार्क से हर आठ मिनट के अंतराल में मेट्रो उपलब्ध होगी। 50 मिनट में यहां से इंद्रलोक पहुंचा जा सकेगा।
कई साल से था इंतजार - 
एनसीआर में सोनीपत और गुरुग्राम व फरीदाबाद के बीच पड़ने वाले गेट-वे ऑफ हरियाणा बहादुरगढ़ को मेट्रो का कई साल से इंतजार था। वैसे तो मेट्रो के साथ ही एक और बड़ी सौगात इस क्षेत्र को एक्सप्रेस हाईवे के रूप में कुछ माह बाद मिलने वाली है। मगर मेट्रो के जरिये दिल्ली से कनेक्टिविटी लोगों का लाइफ स्टाइल बदलेगी।
प्रदूषण से बचने का मिलेगा विकल्प - 
दिल्ली में आज प्रदूषण की कैसी स्थिति है, इससे शायद आज कोई अनजान नहीं। इसके विपरीत बहादुरगढ़ में प्रदूषण ज्यादा नहीं है। मगर मजबूरी के चलते लोग वहां पर अस्थायी ठिकानों पर रह रहे हैं। बहादुरगढ़ तक मेट्रो आने के बाद वहां के लोगों को प्रदूषण से दूरी बनाकर बहादुरगढ़ में रहने का विकल्प भी मिलेगा।
दिल्ली से होगा सीधा जुड़ाव - 
अब बहादुरगढ़ भी मेट्रो की सुविधा वाला शहर हो गया है। इससे दिल्ली का सीधा जुड़ाव होगा। हरियाणा में गुरुग्राम व फरीदाबाद के बाद बहादुरगढ़ तक भी मेट्रो के जरिये सफर हो पाएगा। अब तक तो लोग मुंडका पहुंचकर मेट्रो के जरिये दिल्ली के इंद्रलोक व कीर्तिनगर पहुंचते थे, मगर अब सीधे बहादुरगढ़ से ही मेट्रो की सवारी होगी और आगे ब्लू लाइन की यात्र कर सकेंगे।
हर आठ मिनट में मिलेगी मेट्रो, 50 मिनट में पहुंचेंगे इंद्रलोक - 
सिटी पार्क से हर आठ मिनट में मेट्रो मिलेगी। यहां से इंद्रलोक तक 50 मिनट में पहुंचा जा सकेगा। इस पर सात स्टेशन हैं। सभी एलिवेटेड हैं। दिल्ली में मुंडका औद्योगिक क्षेत्र, घेवरा, टिकरी कलां, टिकरी बॉर्डर तथा हरियाणा के बहादुरगढ़ में मॉडर्न इंडस्ट्रियल एस्टेट, बस स्टैंड, सिटी पार्क हैं। यह इंद्रलोक-मुंडका ग्रीन लाइन का विस्तार है। स्टैंडर्ड गेज में यार इस लाइन पर ग्रीन और वायलट लाइनों की तरह रोलिंग स्टॉक ट्रेन रहेगा।
यह मिलेगा फायदा - 
मुंडका-बहादुरगढ़ खंड बहादुरगढ़ शहर को पश्चिमी दिल्ली के बॉर्डर इलाकों से जोड़ने की दृष्टि से अत्यधिक महत्वपूर्ण है। बहादुरगढ़ एक विकासशील नगर है। जहां कई औद्योगिक यूनिट भी हैं। इसी प्रकार, मुंडका में भी एक औद्योगिक क्षेत्र है जहां कई लोग अपनी व्यवसायिक आवश्यकताओं के लिए प्रतिदिन यात्रा करते हैं। यह कॉरीडोर इन लोगों के लिए काफी मददगार होगा। यह खंड दिल्ली मेट्रो का गुरुग्राम और फरीदाबाद के बाद हरियाणा में तीसरा विस्तार है। हरियाणा में दिल्ली मेट्रो लाइंस का 21 किमी से अधिक लंबा मार्ग है। इस खंड के शुरू होने से हरियाणा में दिल्ली मेट्रो खंड का विस्तार किमी लंबा हो जाएगा।
ये हैं तकनीकी खासियत - 
बहादुरगढ़ में बस स्टैंड मेट्रो स्टेशन की इंटरस्टेट बस टर्मिनल से निर्बाध कनेक्टिविटी है जो हरियाणा के अन्य क्षेत्रों को कनेक्टिविटी प्रदान करता है। टिकरी कलां और एमआइए स्टेशन पर 440 केवीए और 220 केवीए की दो इलेक्ट्रिक लाइन्स को 60 मीटर की ऊंचाई तक ऊपर किया गया। इन पावर लाइन्स की ऊंचाई बढ़ाने के लिए लैटिस स्ट्रर के बजाय भारत में पहली बार 60 मीटर की ऊंचाई के विशेष रूप से डिजाइन किए गए मोनोपोल को खड़ा किया गया।
मुंडका इंडस्ट्रीयल एरिया स्टेशन का निर्माण व्यस्त एन एच-10 पर एकीकृत स्टेशन के रूप में की गई है जिसमें भविष्य में ग्रीन लाइन से होकर मेट्रो ट्रैक की व्यवस्था रखी गई है। ग्रीनलाइन के एम आई ए स्टेशन के रेल स्तर को सतह (ग्राउंड लेवल) से 22 मीटर ऊंचा रखा गया है। एन एच-9 पर यातायात को बाधित किए बिना एमआईए के स्टेशन का निर्माण किया गया।
Continue Reading | comments

मन की बात में पीएम मोदी ने राज्यों को दिया जीएसटी की सफलता का श्रेय

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी 24 जून, रविवार को रेडियो पर 'मन की बात' कार्यक्रम के 45वीं एपिसोड के जरिये देश को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत बेंगलुरु में भारत और अफगानिस्तान के बीच हुए ऐतिहासिक क्रिकेट मैच से की।
पीएम मोदी ने जीएसटी की पहली सालगिरह आने से पहले इसकी सफलता का क्रेडिट राज्यों को दिया। उन्होंने कहा कि 'वन नेशन वन टैक्स' देश के लोगों का सपना था, जो अब हकीकत में बदल चुका है। पीएम ने कहा कि जीएसटी की सफलता के लिए राज्यों ने मिलकर काम किया और इसे सफल बनाया। उन्होंने जीएसटी ईमानदारी की जीत करार दिया।
PM के संबोधन की मुख्य बातें -
- पीएम ने कहा, 'खेल समाज को एकजुट करने और हमारे युवाओं का जो कौशल है, उनमें जो प्रतिभा है, उसे खोज निकालने का एक बेहतरीन तरीका है।
- अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा, 'चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का एक अलग ही नजारा देखने को मिला। पूरी दुनिया एकजुट नजर आई। विश्वभर में लोगों ने पूरे उत्साह के साथ योगाभ्यास किया। ब्रसेल्स में यूरोपियन संसद हो, न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र का मुख्यालय हो, जापानी नौसेना के लड़ाकू जहाज हों, सभी जगह लोग योग करते नजर आए। सऊदी अरब में पहली बार योग का ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ। वहीं, लद्दाख की ऊंची बर्फीली चोटियों पर भारत और चीन के सैनिकों ने एक-साथ मिलकर के योगाभ्यास किया।
- PM मोदी ने संत कबीर का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने जात-पात का भेद मिटाया। उन्होंने कहा, 'संत कबीरदास जी ने अपनी साखियों और दोहों के माध्यम से सामाजिक समानता, शांति और भाईचारे पर बल दिया।
- वहीं, गुरुनानक देव जी का जिक्र करते हुए वे बोले, गुरु नानक देव ने समाज में जातिगत भेदभाव को खत्म करने और पूरे मानवजाति को एक मानते हुए उन्हें गले लगाने की शिक्षा दी। वे करते थे गरीबों और जरुरतमंदों की सेवा ही भगवान की सेवा है। उन्होंने ही लंगर व्यवस्था की शुरुआत की थी।
- जनसंघ संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी को याद करते हुए उन्होंने कहा, उन्होंने हमेशा भारत की अखंडता और एकता की बात की और इसी के लिए 52 साल की कम उम्र में ही उन्हें अपनी जान की गंवानी पड़ी।
बता दें कि ये मन की बात कार्यक्रम का 45वां संस्करण है। 'मन की बात' कार्यक्रम हर महीने के आखिरी रविवार को किया जाता है और इस कार्यक्रम के पीएम मोदी देश के विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय जनता के सामने रखते हैं।
Continue Reading | comments

अखिलेश गलतियों पर गलतियां करते हैं : शिवपाल

Saturday, June 23, 2018

बदायूं। उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री और सपा नेता शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव गलतियों पर गलतियां करते हैं। उन्होंने कभी बड़ों की बात नहीं मानी। अगर वह बड़ों की बात मानते तो उत्तर प्रदेश में सपा ही अकेली विकल्प होती और वह फिर सीएम होते। बिहार में भी हमारी सरकार बन जाती।
शिवपाल यादव यहां ककराला में चल रहे उर्स में शामिल होने पहुंचे थे लेकिन, दोपहर में अचानक बदायूं आ गए। सबसे पहले सागर ताल दरगाह उसके बाद छोटे सरकार की जियारत कर चादरपोशी की। इस दौरान सपा सांसद धर्मेंद्र यादव से संबंधों पर उन्होंने कहा कि धर्मेंद्र हमारे साथ रहे हैं। हमने उन्हें पढ़ाया-लिखाया और उनके पूरे परिवार की शादी मेरे द्वारा की गईं है। उनके पिताजी मेरे साथ हैं। मैंने जो कुछ किया है परिवार के लिए ठीक किया है।
हमारी कोशिश है परिवार एक हो। सपा-बसपा गठबंधन पर शिवपाल यादव ने कहा कि अखिलेश यादव जानें पार्टी कहां से मजबूत होगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष के बारे में कोई कमेंट नहीं करना चाहता न करूंगा। भाजपा सरकार में मंत्री ओमप्रकाश राजभर से मिलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि राजभर से शिष्टाचार मुलाकात हुई थी।
Continue Reading | comments

जम्मू-कश्मीर पहुंचे अमित शाह, रैली को करेंगे संबोधित

जम्मू। श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर भाजपा ने कश्मीर में बड़ा आयोजन किया है। इसके तहत भाजपा अध्यक्ष अमित शाह विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए श्रीनगर पहुंच चुके हैं। जम्मू एयरपोर्ट पर उनका पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया।
शाह जम्मू में पार्टी नेताओं के साथ बैठक करने के अलावा शाम को एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे। राज्य में कुछ दिन पहले ही गठबंधन सरकार के टूटने के बाद अमित शाह के इस दौरे को अहम माना जा रहा है। शाह करीब ग्यारह बजे जम्मू एयरपोर्ट पर पहुंचे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना, पूर्व उपमुख्यमंत्री कविंद्र गुप्ता, विधायक राजेश गुप्ता सहित कई विधायक और पार्टी पदाधिकारी पहुंचे हुए थे।
एयरपोर्ट से उन्हें एक बाइक रैली में गेस्ट हाउस ले जाया गया। बाइक रैली का आयोजन भारतीय जनता युवा मोर्चा ने किया था। इस दौरान पूरे मार्ग पर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्यामा प्रसाद मुखर्जी का उनके बलिदान दिवस पर श्रद्धांजलि देंगे। इस दौरान वह पार्टी के नेताओं के साथ बैठक कर राज्य के वर्तमान हालात की समीक्षा करेंगे। वह शाम को जम्मू के परेड में एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे और यहीं से चुनावी तैयारियों का बिगुल भी फुकेंगे।
कहा जा रहा है कि शाह की रैली के माध्यम से जम्मू-कश्मीर में सरकार को छोड़ने के कारणों के बारे में बताया जाएगा। इस दौरान जम्मूवासियों को भी संदेश दिया जाएगा कि वे पार्टी के लिए सत्ता से अधिक अहमियत रखते हैं।
इस बीच अपने दौरे के दूसरे दिन रविवार को वे प्रजा परिषद आंदोलन पर आधारित पुस्तक का भी विमोचन करेंगे। उसके बाद दिल्ली लौट जाएंगे। उनके साथ भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम लाल और डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी रिसर्च फाउंडेशन के निदेशक डॉ. अनीरबन गांगुली भी मौजूद रहेंगे।
Continue Reading | comments

बीवीआर सुब्रमण्यम ने संभाला जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव का पदभार

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव बनाए गए छत्तीसगढ़ कैडर के 1987 बैच के आईएएस अधिकारी बीवीआर सुब्रमण्यम ने अपना पदभार संभाल लिया है। सुब्रमण्यम ने शनिवार को ऑफिस का चार्ज लिया। राज्य में राज्यपाल शासन लगते ही केंद्र सरकार ने सुब्रमण्यम को वहां बुलाने का फैसला किया था।
इससे पहले सुब्रमण्यम छत्तीसगढ़ सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव के पद पर थे और गृह, जेल तथा परिवहन विभाग संभाल रहे थे। केंद्र सरकार ने सुब्रमण्यम को तत्काल जम्मू-कश्मीर में ज्वाइन करने का आदेश दिया था। सुब्रमण्यम को नक्सल मोर्चे पर सफल अफसर के तौर पर देखा जाता है।
सुब्रमण्यम मनमोहन सिंह की सरकार के वक्त केंद्र सरकार में ज्वाइंट सेक्रेटरी रहे। मोदी के कार्यकाल में भी वह एक साल तक ज्वाइंट सेक्रेटरी रहे। पिछले तीन साल से वे अपने मूल कैडर छत्तीसगढ़ में काम कर रहे थे। नक्सल इलाकों में विकास कार्यों में दूसरे विभागों से समन्वय के लिए उन्हें छत्तीसगढ़ में याद किया जाएगा।
मूल रूप से आंध्रप्रदेश के रहने वाले सुब्रमण्यम मैकेनिकल इंजीनियर हैं। प्रशासनिक हल्कों में उन्हें बीवीआर के नाम से जाना जाता है। नक्सल प्रभावित छत्तीसगढ़ में गृह विभाग का काम देखते हुए उन्होंने स्थानीय पुलिस, अर्धसैन्य बलों और राज्य सरकार के विभागों के बीच समन्वय बनाकर नाम कमाया।
उनके कार्यकाल में अति नक्सल प्रभावित इलाकों में मूलभूत सुविधाओं का विकास हुआ। दशकों से बंद पड़ी सड़कों को दोबारा बनाने में उनका बड़ा योगदान रहा है। चुपचाप काम करने में विश्वास रखने वाले सुब्रमण्यम मीडिया से दूर रहते हैं।
उनकी इन्हीं विशेषताओं को ध्यान में रखकर केंद्र सरकार ने उन्हें ऐसे राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है जो आंतरिक सुरक्षा के मुद्दे पर और पाकिस्तान समर्थित उग्रवाद से बुरी तरह पीड़ित है। गृह विभाग के प्रमुख सचिव और बाद में अतिरिक्त मुख्य सचिव के रूप में वे लगातार बस्तर के नक्सल प्रभावित इलाकों में जाकर खुद विकास कार्यों की निगरानी करते रहे।
उनके पुलिस अफसरों से बेहतरीन संबंध थे। वे विकास की योजनाएं बनाने और दूसरे विभागों से चर्चा कर उसे आनन-फानन में उसे लागू कराने के लिए जाने जाते हैं। छत्तीसगढ़ में गृह विभाग के अपने तीन साल के कार्यकाल में उन्होंने फोर्स और सिविल प्रशासन में तालमेल बिठाया जिसका नतीजा यह रहा कि बस्तर में बड़ी नक्सली घटनाओं में कमी दर्ज की गई।
उनकी सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मनमोहन के प्रधानमंत्री रहने के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने उन्हें पत्र लिखकर कहा कि सुब्रमण्यम को छत्तीसगढ़ वापस भेज दें ताकि वे राज्य में सेवाएं दे सकें। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने जवाब दिया कि उन्हें ऐसे अफसर की जरूरत है जो संवेदनशील विषयों पर काम कर सकता है और जो विश्वास बनाए रखता हो। वे मनमोहन सिंह के विश्वस्त रहे।
उन्होंने प्रधानमंत्री के सचिव के तौर पर यूपीए-1 सरकार में चार साल बिताए। फिर मार्च 2012 से मार्च 2015 तक प्रानमंत्री कार्यालय में ज्वाइंट सेक्रेटरी रहे। लंदन बिजनेस स्कूल से मैनेजमेंट की डिग्री लेने वाले सुब्रमण्यम इस बीच वाशिंगटन में विश्व बैंक के सलाहकार भी रहे। 57 साल के सुब्रमण्यम ने बस्तर विकास का प्लान बनाया। जम्मू कश्मीर में उन्हें सेना और अर्धसैन्य बलों में समन्वय बनाने की चुनौती मिलेगी। वे इस काम के माहिर माने जाते हैं।
Continue Reading | comments

'एक क्लिक' से मप्र को इतनी सौगातें दे रहे PM मोदी

राजगढ़ । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को मप्र के दौरे पर हैं। प्रधानमंत्री मोदी अपने दौरे के दौरान राजगढ़ के दौरे के बाद इंदौर पहुंच चुके हैं। अपनी यात्रा के दौरान पीएम मोदी पूरे मध्यप्रदेश के अलग-अलग अंचल को 'एक क्लिक' से कई सौगातें दे रहे हैं।
सबसे पहले उन्होंने राजगढ़ जिले में 3800 करोड़ रुपए की लागत से मोहनपुरा वृहद सिंचाई परियोजना का लोकार्पण किया। इसके बाद मप्र में 14 साल बाद फिर से राज्य सड़क परिवहन निगम के बस सेवा का शुभारंभ करेंगे। फिलहाल मप्र के 20 शहरों में 1600 बजे शुरू की जा रही है। पहले चरण में 127 बसें इंदौर, भोपाल, जबलपुर, छिंदवाड़ा, गुना और भिंड शुरू होगी।
इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने कटनी में 35 करोड़ की लागत से बनने वाले इंट्रीग्रेटेड सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट का भी ई-शुभारंभ करेंगे। वहीं स्मार्ट सिटी मिशन के तहत 5 स्मार्ट सिटी इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर और उज्जैन में 278.36 करोड़ की लागत से 23 कार्यों का लोकार्पण करेंगे।
मप्र दौरे में प्रधानमंत्री ने प्रदेश के 10 नगरीय क्षेत्रों में 10 पार्क का ई-लोकार्पण किया, जिसकी लागत 8.31 करोड़ रुपए है। साथ ही 2.11 करोड़ की लागत से निर्मित छतरपुर-बिजावर रोड का भी लोकार्पण करेंगे।
इससे पहले प्रधानमंत्री ने पीएम आवास योजना से लाभ लेकर घर बनाने वाले करीब 1 लाख 219 परिवारों का गृहप्रवेश कराएंगे। इसकी लागत 4063 करोड़ रुपए है। मुख्यमंत्री शहरी पेयजल के तहत 14 नगरीय क्षेत्रों की पेयजल योजनाओं का शुभारंभ करेंगे, इसकी लागत 227.78 करोड़ रुपए है।
Continue Reading | comments

Film Directory Form

देश

दुनिया

मध्यप्रदेश / छत्तीसगढ़

 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger