पिछले 11 सालों में सरकारी बैंकों पर सरकार ने खर्च किए 2.6 लाख करोड़

Monday, February 19, 2018

नई दिल्ली। हीरा कारोबारी नीरव मोदी द्वारा पंजाब नेशनल बैंक(पीएनबी) को 11 हजार करोड़ से ज्यादा का चूना लगाने के बाद सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से जुड़ी चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है।
इसके मुताबिक पिछले 11 साल में केंद्र सरकार ने सरकारी बैंकों की हालत सुधारने के लिए मोटी राशि लगाई है। आंकड़ा छोटा मोटा नहीं बल्कि पूरे 2.6 लाख करोड़ का है, जो सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वित्तीय स्थिति सुधारने के लिए लगाई है।
कॉरपोरेट फ्रॉड और गलत ढंग से दिए गए लोन की वजह से बैंकों को पिछले कुछ सालो में बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसे में बैंकों की हालत सुधारने के लिए सरकार को बजट का एक बड़ा हिस्सा बैंकिंग सेक्टर को देना पड़ रहा है।
सरकार ने बैंकों पर खर्च किए 2.6 लाख करोड़ रुपए-
एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक पिछले 11 सालों में देश के तीन वित्त मंत्रियों प्रणव मुखर्जी, पी चिदंबरम और अरुण जेटली ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को एनपीए( नॉन परफॉर्मिंग एसेट) से उबारने के लिए 2.6 लाख करोड़ रुपए लगाए हैं। ये आंकड़ा 2G घोटाले के अनुमानित घाटे से भी ज्यादा है। वहीं यह आंकड़ा इस साल के बजट में ग्रामीण विकास के लिए आवंटित की गई राशि से दोगुना और सड़क परिवहन मंत्रालय के लिए आवंटित राशि से साढ़े तीन गुना ज्यादा है। आपको बता दें कि कैग के अनुसार 2G घोटाले के चलते सरकारी खजाने को अनुमानित एक लाख 76 हजार करोड़ का नुकसान हुआ था।
बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन के लिए इस वित्त वर्ष और अगले वित्त वर्ष निकाले गए 1.45 लाख करोड़ रुपए के अलावा सरकार 2010-11 से 2016-17 के बीच बैंकों को 1.15 लाख करोड़ रुपए दे चुकी है। इस दौरान बैंकों का लाभ 1.8 लाख करोड़ तक पहुंच गया। मगर देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई (SBI) समेत अन्य सरकारी बैंक एनपीए और गलत ढंग से दिए गए लोन की भरपाई के चलते, पिछले दो वित्त वर्षों से घाटे में चल रहे हैं। वहीं इस साल भी बैंकों की हालत में बदलाव होता नहीं दिख रहा है, क्योंकि देश के सबसे बड़ा कर्ज देने वाले बैंक एसबीआई(SBI) ने पिछले 18 सालों में पहली बार तिमाही घाटा दर्ज किया है।
बैंक ऑफ बड़ौदा का हाल भी ऐसा ही है। रेटिंग एजेंसी केयर के मुताबिक, 'एनपीए की बात करें तो ऐसा नहीं लगता कि पब्लिक सेक्टर बैंकों का बुरा दौर खत्म हो गया है।' इस घाटे से रिर्टन ऑन इक्विटी(ROE) और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की पूंजी पर भी असर पड़ा है।
ये होता है NPA-
अगर कोई कंपनी या शख्स किसी बैंक से लोन लेता है, लेकिन वह वक्त पर ईएमआई चुका नहीं पाता है। ऐसी स्थिति में उसका लोन अकाउंट नॉन-परफॉर्मिंग एसेट (एनपीए) कहलाता है। नियमों के हिसाब से जब किसी लोन की ईएमआई, मूलधन या ब्याज नियत तिथि के 90 दिन के भीतर नहीं आती है तो उसे एनपीए में डाल दिया जाता है।
Continue Reading | comments

PNB घोटाले पर बोली ममता बनर्जी, सामने आनी चाहिए पूरी सच्चाई

कोलकाता। अक्सर केंद्र सरकार के विरोध में नजर आनी वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का पंजाब नेशनल बैंक घोटाले को लेकर बयान आया है। ममता ने बिना किसी का नाम लिए कहा कि बैंक में घोटाले को नोटबंदी के दौरान बढ़ावा मिला और अब इस घोटाले की पूरी सच्चाई सामने आनी चाहिए।
रविवार को किए ट्वीट में सुश्री बनर्जी ने लिखा है कि नोटबंदी के दौरान बड़े पैमाने पर पैसों की हेराफेरी की गई। इस प्रकरण में अन्य कई बैंक शामिल हैं। संपूर्ण सच्चाई सबके सामने आनी चाहिए।
यहां बता दें कि भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार ने 8 नवंबर, 2016 को काले धन के संचलन को रोकने के लिए 500 रुपये और 1,000 रुपये के पुराने नोट को अमान्य कर दिया था। सुश्री बनर्जी के मुताबिक नोटबंदी के दौरान कुछ बैंकों में प्रमुख अधिकारियों का तबादला किया गया। उन्होंने कहा कि उस दौरान किए गए तबादले की भी पूरी जांच होनी चाहिए।
उल्लेखनीय है कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में हजारों करोड़ रुपये की जालसाजी के मुख्य आरोपी नीरव मोदी को लेकर भाजपा व कांग्रेस में जुबानी जंग तेज है। दोनों पक्ष की ओर से एक दूसरे पर आरोप लगाने का सिलसिला जारी है। वहीं नोटबंदी से लेकर जीएसटी तक के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने वाली मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी इसमें चुकना नहीं चाहती। बंगाल में पैठ बढ़ा रही भाजपा को मुख्यमंत्री लगातार निशाना बना रही हैं।
नीरव मोदी नमूना और भी कई हैं शामिल
तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता व राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने पीएनबी प्रकरण में केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। रविवार को दिए बयान में डेरेक ने कहा कि पीएनबी प्रकरण में नीरव मोदी तो छोटा नमूना है इसमें अन्य कई बड़े नाम भी शामिल है। उन्होंने कहा कि इतने बड़े धोखेबाजी में कई लोग शामिल हैं और इसे पहले से ही सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गाय है। नोटबंदी के समय पैसों की हेराफेरी हुई। बैंक अधिकारियों को क्यों बदला गया। इस प्रकरण में और भी कई बैंक शामिल है पूरी
Continue Reading | comments

भाजपा ने राजेंद्र नामदेव को पद से हटाया, छेड़छाड़ का लगा था आरोप

भोपाल। भाजपा ने राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त राजेंद्र नामदेव को पाटी से निकाल दिया है, इसी के साथ उन्हें सिलाई कला मंडल के उपाध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है। नामदेव पर एक महिला इंजीनियर ने रविवार रात हनुमानगंज थाने पहुंचकर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था। इस आधार पर हनुमानगंज पुलिस ने उनको थाने तलब किया। इधर, इसी युवती पर 2016 में हबीबगंज स्थित अरेरा कॉलोनी में उसके रिश्तेदार द्वारा एसिड अटैक किया गया था।
उस मामले में महिला की मदद के दौरान युवती नामदेव के करीब आई थी। उसके बाद युवती को उनके साथ कई दफा देखा गया था। रविवार को पीड़िता अपने भाई के साथ हनुमानगंज थाने पहुंची थी। जिस पर उनके खिलाफ रविवार रात छेड़खानी एफआईआर दर्ज हुई।
पुलिस फिलहाल उनकी गिरफ्तारी नहीं की गई है। उनके तरफ से भी एक आवेदन दिया गया है, जिसमें उन्होंने पीड़िता को सजिश के तहत भड़काने का आरोप लगाया है। उसकी जांच के बाद ही गिरफ्तारी होगी। सिवनी की रहने वाली 28 वर्षीय युवती बीई कर चुकी है।
Continue Reading | comments

नीरव मोदी के चक्कर में कांग्रेस के 29 विधायक निलंबित

रायपुर। देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के आरोपी नीरव मोदी मामले की गूंज छत्तीसगढ़ विधानसभा में सुनाई पड़ी। कांग्रेस ने शून्यकाल में यह मामला उठाया और सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। विपक्ष की तरफ से कहा गया कि नीरव मोदी की पार्टनर कंपनी को छत्तीसगढ़ में निवेश का आमंत्रण दिया गया, जब पिछले दिनों मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गए थे, उन्होंने रियो टिंटो को निवेश के लिए आमंत्रित किया था। विपक्ष इस पर अपने स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा की मांग करने लगा।
भूपेश बघेल ने आरोप लगाया कि छत्तीसगढ़ को भी लूटने के लिए ये न्योता दिया गया, क्योंकि ये कंपनी पहले ही ब्लैक लिस्टेड हो चुकी है। रियो टिंटो नीरव मोदी की पार्टनर कंपनी है। भूपेश बघेल ने कहा कि 2004 में रियो टिंटो को सर्वेक्षण की अनुमति दी गई थी। अब दोबारा निवेश के नाम पर कंपनी को आमंत्रण दिया जा रहा है। कांग्रेस के बाकी सदस्य भी इस पर चर्चा की मांग करने लगे।
स्पीकर ने स्थगन प्रस्ताव को अस्वीकार करते हुए कहा कि काल्पनिक मुद्दों पर स्थगन नहीं लगाया जाता। इसके बाद विपक्ष ने इस मामले में हंगामा शुरु कर दिया। जवाब में सत्ता पक्ष की तरफ से भी नारेबाजी शुरू हो गए। हंगामा बढ़ता देख स्पीकर ने सदन की कार्रवाई पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।
दोबारा सदन की कार्रवाई शुरु हुई, तब भी विपक्ष का हंगामा और नारेबाज़ी जारी रही। जिससे सदन की कार्रवाही बाधित रही। नारेबाज़ी करते हुए विपक्ष के नेता गर्भगृह पहुंच गए और वहां जमीन पर बैठकर नारेबाज़ी करने लगे। गर्भगृह में प्रवेश के कारण स्पीकर ने कांग्रेस के 29 विधायकों के निलंबन की घोषणा करते हुए उन्हें सदन से बाहर जाने का आग्रह किया।
Continue Reading | comments

PNB Scam: बैंक की मुंबई ब्रांच सील, गीतांजली गेम्स के CFO समेत दो का इस्तीफा

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11400 करोड़ के घोटाले को लेकर ईडी और सीबीआई की कार्रवाई जारी है। इसी कड़ी में रविवार को भी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के ठिकानों पर देश के कई राज्यों में छापामार कार्रवाई हुई।
वहीं दूसरी तरफ सोमवार सुबह सीबीआई ने पीएनबी की मुंबई स्थित ब्रैडी हाउस ब्रांच को सील कर दिया है। साथ ही बैंक के बाहर नोटिस का एक पर्चा चिपका दिया है, जिस पर लिखा है कि इस ब्रांच को नीरव मोदी एलओयू मामले के कारण सील किया जाता है। इसके बाद इस ब्रांच में कोई भी काम नहीं होगा। पीएनबी कर्मचारियों के प्रवेश पर भी रोक लगा दी गई है।
रविवार रात शुरू हुई थी तलाशी
सीबीआई ने रविवार को ब्राडी हाउस शाखा की तलाशी शुरू की थी। इससे पहले पीएनबी के तमाम अफसरों के अलावा विपुल अंबानी व नीरव के अन्य स्टाफ से भी आठ घंटे तक पूछताछ की गई। इस बीच घोटाले के खुलासे के बाद गीतांजलि जेम्स से सीअफओ समेत दो लोगों ने मेहुल चौकसी को अपना इस्तीफा दे दिया है। इनमें सीफओ के साथ कंप्लायंस एंड कंपनी सेक्रेटरी भी शामिल है। इन दोनों ने मेहुल चौकसी पर पत्र लिखकर अपना इस्तीफा सौंप दिया है।
दूसरी तरफ कंपनी के शेयर में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। बीते तीन दिनों में कंपनी का शेयर करीब 50 फीसद टूट गया। आज सुबह खुलते ही गीतांजलि जेम्स के शेयर में 10% लोअर सर्किट लगा जिसके बाद यह 33.80 के स्तर पर आ गया। आपको बता दें कि गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चौकसी पर गलत ढंग से एलओयू हासिल कर धोखाधड़ी करने का आरोप है।
लगातार 3 लोअर सर्किट
बीते दो कारोबारी सत्रों में गीतांजलि जेम्स के शेयर में 20-20 फीसद के लोअर सर्किट लगे थे। जिसके बाद एक्सचेंज पर इसके सर्किट में बदलाव कर इसे 20 फीसद से घटाकर 10 फीसद कर दिया गया। आपको बता दें बीते तीन कारोबारी सत्रों में गीतांजलि जेम्स के शेयर में निवेशकों की रकम आधी रह गई है। आपको बता दें कि गीतांजलि जेम्स के शेयर में कोई भी खरीदार नहीं है केवल बिकवाली के कारण शेयर में लगातार लोअर सर्किट लग रहे हैं।
शुक्रवार को पूंजी बाजार नियामक संस्था भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कहा कि उसने पीएनबी व गीतांजलि जेम्स के शेयरों की ट्रेडिंग व डिसक्लोजर जैसे मुद्दों समेत अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले अन्य नजरिये से जांच शुरू कर दी है। दूसरी तरफ ऑडिटर्स की सर्वोच्च संस्था इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आइसीएआइ) ने भी कहा है कि वह पीएनबी मामले में संबंधित बैंकों और कंपनियों के ऑडिटर्स की भूमिका की जांच करेगा।
सेबी ने एक बयान में कहा कि संस्था शेयर बाजार में सर्वोच्च स्तर के आचरण और निष्ठा के लिए प्रतिबद्ध है। जो कोई भी इसका उल्लंघन करता पाया जाएगा, नियामक उसके खिलाफ कठोर कदम उठाएगा। गौरतलब है कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने वर्ष 2013 में गीतांजलि जेम्स के शेयरों की खरीद-फरोख्त में गड़बड़ी पकड़ी थी। उसके बाद एनएसई ने उसी वर्ष जुलाई 2013 में कंपनी के प्रमोटर मेहुल चोकसी और अन्य को गीतांजलि जेम्स के शेयरों में कारोबार करने पर रोक लगा दी थी।
Continue Reading | comments

Gujarat Civic poll results: मोदी के गृहनगर में कांग्रेस साफ, भाजपा ने बनाई बढ़त

अहमदाबाद। गुजरात में निकाय चुनावों की वोटिंग के बाद अब मतगणना जारी है। सुबह से जारी मतगणना में भाजपा और कांग्रेस में कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है। राज्य की 75 नगर पालिकाओं पर हुए चुनाव की मतगणना के दौरान भाजपा ने पीएम के गृहनगर वडनगर में कांग्रेस का सुपड़ा साफ कर दिया है।
सुबह 8 बजे शुरू हुई मतगणना के बाद अब तक आए नतीजों व रुझानों में भाजपा ने 41 सीटों पर बढ़त बना ली है वहीं कांग्रेस 25 सीटों पर आगे है।
राज्य में 75 नगर पालिकाओं के अलावा, दो जिला पंचायतों के अलावा 17 तालुका और 1400 ग्राम पंचायतों के लिए हाल ही में मतदान हुआ था।
चुनाव की पहली जीत भाजपा के खाते में गई है और उसने साणंद नगरपालिका के तीन वार्डों में जीत दर्ज की है। इसके अलावा भाजपा ने वडनगर नगरपालिका पर जीत दर्ज की है।
राज्य में निकाय चुनाव के लिए 17 फरवरी को मतदान हुआ था। फिलहाल वोटों की गिनती जारी है और दोनों ही पार्टियों के बीच मुकाबला भी।
Continue Reading | comments

Rotomac पेन कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी के ठिकानों पर CBI का छापा, पूछताछ जारी

नई दिल्ली। रोटोमैक पेन कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी पर कई बैंकों को 800 करोड़ रुपए का चूना लगाने के आरोप लगने के बाद सीबीआई ने उनके खिलाफ कार्रवाई की है। सीबीआई ने मामले में कोठारी के खिलाफ केस दर्ज करने के बाद कानपुर में उनके तीन ठिकानों पर छापा मारा है। फिलहाल कार्रवाई जारी है और टीम विक्रम कोठारी से पूछताछ कर रही है। खबर है कि टीम ने उन्हें हिरासत में ले लिया है और उनकी गिरफ्तारी हो सकती है।
रोटोमैक पेन कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी के बारे में कहा जा रहा है कि उन्होंने पांच सरकारी बैंकों से 800 करोड़ रुपए का घोटाला किया है और वह देश छोड़कर फरार हो गए हैं।
हालांकि, कोठारी ने हाल ही में एक बयान जारी कर कहा था कि उन्होंने देश नहीं छोड़ा है और वो भारत में ही हैं। इसके बाद अब उन्हें लेकर कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। वहीं कंपनी का मालरोड स्थित दफ्तर पिछले एक सप्ताह से बंद है।
विक्रम कोठारी ने बैंक ऑफ इंडिया, इलाहबाद बैंक और यूनियन बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और इंडियन ओवरसीज बैंक से 800 करोड़ का लोन लिया था। बताया जा रहा है कि बैंकों ने नियमों की अनदेखी कर कंपनी को यह कर्ज दिया है।
Continue Reading | comments

463 अंकों की गिरावट के साथ खुला शेयर बाजार, निफ्टी 10400 के नीचे

मुंबई। सोमवार के कारोबारी दिन भारतीय शेयर बाजार की शुरुआत गिरावट के साथ हुई है। पीएनबी घोटाले और वैश्विक बाजारों के असर के चलते प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स जहां 463 अंक गिरकर खुला वहीं निफ्टी में भी 152 अंकों की गिरावट नजर आई।
खबर लिखे जाने तक प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स जहां 217 अंकों की कमजोरी के साथ 33793 के स्तर पर कारोबार कर रहा था वहीं निफ्टी 67 गिरकर 10364 के स्तर पर नजर आया।
बैंकिंग शेयरों में गिरावट आज भी जारी है। यूनियन बैंक के शेयर में 5 फीसद से ज्यादा की गिरावट देखने को मिल रही है। आपको बता दें कि बैंक के शेयर में इस गिरावट की बड़ी वजह रोटोमैक पेन कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी के 800 करोड़ का कर्ज डिफॉल्ट करने के बाद देश छोड़ जाने की खबरें सामने आ रही हैं। इस लोन में यूनियन बैंक की ओर से बड़ी राशि दी गई थी।
यूनियन बैंक के अलावा भी पंजाब नेशनल बैंक, एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा और यूको बैंक भी शामिल हैं। सरकारी बैंकों के इतर निजी बैंकों में खरीदारी देखने को मिल रही है। निजी बैंकों में खरीदारी के चलते बैंक निफ्टी 0.17 फीसद की बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है। बैंक और फाइनेंस सेक्टर को छोड़कर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर आज सभी इंडेक्स गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। रियल्टी, मेटल, आईटी, फार्मा सभी इंडेक्स आधे फीसद की गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं।
शेयरों की बात करें तो निफ्टी में शुमार 50 में से 27 शेयर गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। वहीं 23 शेयरों में तेजी का रुख है। जिन शेयरों में बढ़त देखने को मिल रही है उनमे ICICI बैंक, इंफ्राटेल, अंबुजा सीमेंट, वेदांता लिमिटेड और गेल शामिल हैं। वहीं टाटा स्टील, जी एंटरटेनमेंट, एचसीएल टेक, टेक महिंद्रा और बजाज फिनसर्व निफ्टी के टॉप लूजर हैं।
एशियाई बाजारों से मजबूत संकेत
आज सुबह एशियाई बाजारों में बढ़त देखने को मिली। सुबह 8 बजे जापान का इंडेक्स निक्केई करीब 1.25 फीसद की बढ़त के साथ 21994 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं शंघाई भी आधे फीसद की बढ़त के साथ 3199 के स्तर पर है। हैंगसैंग में करीब 2 फीसद की बढ़त देखने को मिल रही है, यह 31115 के स्तर पर कारोबार कर रह है। इसके अलावा कोस्पी 0.71 फीसद की बढ़त के साथ 2439 के स्तर पर है।
विशेषज्ञ का नजरिया
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड विनोद नायर ने कहा, ‘हालिया गिरावट के बाद बाजार अपने सर्वोच्च स्तर से पांच फीसद नीचे आ चुका है। अब शॉर्ट टर्म में इसमें स्थिरता की उम्मीद है।’ पीएनबी में हुए घोटाले का असर सार्वजनिक क्षेत्र के और भी कुछ बैंकों पर पड़ने की आशंका है। इसे देखते हुए शॉर्ट टर्म में इनमें नरमी का रुख रह सकता है। पीएनबी के शेयर फिलहाल 52 हफ्तों के निचले स्तर पर चल रहे हैं। पिछले तीन सत्रों में पीएनबी के बाजार पूंजीकरण में 8,731 करोड़ रुपये की गिरावट आ चुकी है।
Continue Reading | comments

Film Directory Form

देश

दुनिया

मध्यप्रदेश / छत्तीसगढ़

 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger