ब्रेन ट्यूमर है जानलेवा, शुरुआती लक्षणों में सामने आती है ऐसी परेशानी

Monday, September 24, 2018

ब्रेन ट्यूमर जानलेवा साबित हो सकता है। मगर, इसके शुरुआती लक्षणों पर जरा सा ध्यान दिया जाए, तो इस बीमारी से बचा जा सकता है। एंडोस्कोपिक ट्रांस नसल सर्जरी से इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। इस प्रक्रिया में निशान भी नहीं पड़ते हैं और यह बहुत ही सुरक्षित सर्जरी है। शुरुआती स्तर पर ही इस बीमारी के लक्षण दिखने लगते हैं।
यदि किसी व्यक्ति को सिरदर्द बना रहता है, उल्टी की शिकायत होती है और उसकी नजर लगातार कमजोर होती जा रही है या नाक से तरल पदार्थ निकलता रहता है, तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म, मासिक धर्म का लंबे समय तक चलना या स्तन से सफेद द्रव्य के निकलने से इसे जोड़ा जाता है।
एमआरआई टेस्ट से इस बात का पता चल सकता है कि व्यक्ति को ब्रेन ट्यूमर है या नहीं। यह सुनिश्चित हो जाए कि ब्रेन ट्यूमर है, तो एंडोस्कोपिक ट्रांस नसल सर्जरी से इसका इलाज किया जाता है। कई बार इन लक्षणों के सामने आने के बाद मरीज चिकित्सक, एंडोक्राइनोलॉजिस्ट या नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करते हैं। वहीं, महिलाएं हार्मोनल उपचार के लिए अक्सर स्त्री रोग विशेषज्ञ से संपर्क करती हैं क्योंकि वे मानती हैं कि मासिक समस्या हार्मोन्स के असंतुलन के कारण हो सकती है।
मगर, जब समस्याएं बनी रहती हैं और नजर काफी हद तक खराब हो जाती है, तो उस मामले में काफी देर हो चुकी होती है। क्योंकि इस समय तक ट्यूमर का पता भी नहीं चल पाता है और वह आकार में भी बढ़ गया होता है। हालांकि, ट्यूमर को तब भी सफलतापूर्वक हटाया जा सकता है, लेकिन इलाज में देरी होने से करीब 50 फीसद मरीज अक्सर अपनी नजर खो देते हैं।
भारत में प्रति एक लाख में से 3.4 पुरुषों और 1.2 महिलाओं को ब्रेन ट्यूमर होने के मामले सामने आए हैं। न्यूरोसर्जन एक एंडोस्कोप को नाक के माध्यम से मस्तिष्क के ट्यूमर तक पहुंचता है और उसे निकालता है। इसके लिए नाक के गुहा के पीछे एक छोटी चीरा लगाया जाता है। पिट्यूटरी का पता चलने के बाद न्यूरोसर्जन ट्यूमर को निकाल देता है। यह शल्य चिकित्सा विकल्प सुरक्षित और प्रभावी है।
Continue Reading | comments

उमरिया: नाबालिग से छेड़छाड़ के आरोपी को 3 वर्ष की सजा

उमरिया। द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश राजेश तिवारी ने नाबालिग से छेड़छाड़ के आरोपी को 3 वर्ष की सजा के साथ 1 हजार रूपए का अर्थदण्ड लगाया है। 12 जुलाई 2016 को नाबालिग अपने रिश्तेदार की बारात में ग्राम भगड़ा आयी थी रात्रि 2 बजे वह शौच के लिये निकली उस वक्त रास्ते मे आरोपी दिवाला बैगा ने उसका हाथ पकड़ लिया और छेड़छाड़ करने लगा।
पीड़िता के चिल्लाने पर रिश्तेदार एवं गांव के लोग आये और आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। परिजनों द्वारा कोतवाली में मामले की शिकायत दर्ज करने पर पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध 354 एवं पास्को एक्ट के तहत मामला कायम किया था। अभियोग पत्र पेश होने और दोनों पक्षों के गवाह एवं बहस के पश्चात न्यायालय द्वारा आरोपी दिवाला बैगा को 3 वर्ष का कारावास एवं अर्थदण्ड की सजा दी है।
Continue Reading | comments

सुरक्षा बलों ने सूरनार के जंगल में नक्सली स्मारक ध्वस्त किया

दंतेवाड़ा। जिले के कुआकोंडा थाना क्षेत्र के सूरनार जंगल में सीआरपीएफ और जिला पुलिस बल के संयुक्त टीम ने एक नक्सली स्मारक को ध्वस्त किया।
इलाके में बड़े नक्सलियों की मौजूदगी की खबर पर कुआकोंडा थाना सहित सीआरपीएफ 111वीं बटालियन की टीम सर्चिंग पर निकली थी। तभी गायतापारा के पास जंगल में फोर्स को नक्सली भाग खड़े हुए। लेकिन वापसी के दौरान जंगल में फोर्स ने एक लाल रंग से निर्मित बड़ा स्मारक नजर आया। जिसे जवानों ने ध्वस्त कर दिया। यह स्मारक पूर्व में मारे गए नक्सली बालसिंह का बताया जा रहा है।
पुलिस सूत्रों के अनुसार शनिवार को पुलिस को खबर मिली थी कि सूरनार इलाके में नक्सलियों का जमावाड़ा है। इसके बाद थाना और सीआरपीएफ के चुनिंदा जवान सर्चिंग पर निकले। बताया जा रहा है जब टीम सूरनार के जंगल में पहुंची तो कुछ संदिग्ध लोग फोर्स को देखकर जंगल- पहाड़ी की ओर भाग निकले थे।
टीम कुछ दूर और आग बढ़ी और वापस लौट रही थी, तभी जंगल में नक्सलियों ने एक बहुत बड़ा लाल रंग का स्मारक नजर आया। जिस पर कामरेड बाल सिंह लिखा हुआ था। जवानों ने उस स्मारक को ध्वस्त कर दिया। उल्लेखनीय है कि जानकारी बाल सिंह कटेकल्याण एरिया कमेटी का सक्रिय नक्सली रहा है।
बीते साल डीआरजी की टीम ने मुठभेड़ में मार गिराया था। बाल सिंह ने झीरमघाटी पर कांग्रेसियों के काफिले पर भी हमला करने वाली घटना में शामिल रहा है। ज्ञात हो कि 21 से 27 सितंबर तक नक्सली स्थापना दिवस मना रहे हैं। इस दौरान वे अपने मृत साथियों को याद करते श्रंद्धाजलि कार्यक्रम करते हैं। साथ अपनी उपस्थिति दर्शाने वारदात को भी अंजाम देते हैं।

Continue Reading | comments

PM मोदी ने पेकयॉन्ग एयरपोर्ट का किया उद्घाटन, कहा- आम लोगों को होगा फायदा

गंगटोक। सिक्किम राज्‍य को पहला एयरपोर्ट मिल गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकयोंग एयरपोर्ट का उद्घाटन किया। यह देश का 100वां एयरपोर्ट है और इस मौके पर पीएम मोदी ने एक पुस्तिका का भी अनावरण किया। इसके शुरू होने से राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।
इसके बाद एक सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का ये दिन सिक्किम के लिए तो ऐतिहासिक है ही, देश के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। इस एयरपोर्ट के खुलते ही देश में एयरपोर्ट की सेंचुरी यानि शतक लग गया है। अपने पहले और देश के सौवें एयरपोर्ट से जुड़ने पर आप सभी को बहुत-बहुत बधाई। ये एयरपोर्ट आप लोगों के जीवन और आसान करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है।
पेकयॉन्ग एयरपोर्ट इस थका देने वाली दूरी को मिनटों में समेटने वाला है। इससे सफर तो आसान और कम हुआ ही है, सरकार ने ये भी कोशिश की है यहां से आना जाना सामान्य व्यक्ति की पहुंच में भी रहे। इसलिए इस एयरपोर्ट को उड़ान योजना से जोड़ा गया है।
पीएम ने आगे कहा कि सिक्किम को और नॉर्थ ईस्ट में इंफ्रास्ट्रक्चर और इमोशनल, दोनों तरह की कनेक्टिविटी को विस्तार देने का काम तेजी से चल रहा है। मैं खुद नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में विकास की जानकारी लेने कई बार आ चुका हूं। इसका परिणाम क्या हुआ ये भी आप सभी अब जमीन पर देख रहे हैं। सिक्किम हो, अरुणाचल प्रदेश हो, मेघालय हो, मणिपुर, नागालैंड, असम, त्रिपुरा हो, नॉर्थ ईस्ट के सभी राज्यों में बहुत से काम पहली बार हो रहे हैं। हवाई जहाज पहली बार पहुंचे हैं, रेल कनेक्टिविटी पहली बार पहुंची है, कई जगह बिजली पहली बार पहुंची है,
चौड़े नेशनल हाईवे बन रहे हैं, गांव की सड़कें बन रही हैं, नदियों पर बड़े-बड़े पुल बन रहे हैं, डिजिटल इंडिया का विस्तार हो रहा है।
2009 में रखी थी आधारशिला
साल 2009 में इस हवाई अड्डे की आधारशिला रखे जाने के करीब नौ साल बाद सिक्किम को यह हवाईअड्डा मिला है। यह हवाई अड्डा सिक्किम की राजधानी गंगटोक से करीब 33 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और इसके तैयार हो जाने के बाद सिक्किम के साथ देश के अन्य हिस्सों का संपर्क बढ़ जाएगा। 201 एकड़ में फैला यह हवाई अड्डा समुद्र तल से करीब 4,500 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। इसे बनाने में 605.59 करोड़ रुपए की लागत आई है।
यह एयरपोर्ट चीन बॉर्डर से सिर्फ 60 किमी दूर है। यहां से उड़ान भरने वाले एयरफोर्स विमानों को चीन सीमा तक पहुंचने में कुछ ही मिनट का समय लगेगा। यह एयरपोर्ट देश का 100वां वर्किंग एयरपोर्ट होगा। हाल ही में भारतीय वायुसेना का एक डोर्नियर 228 इस हवाई अड्डे पर ट्रायल के तौर पर उतारा गया था।
Continue Reading | comments

मालदीव में विपक्षी उम्मीदवार सोलीह ने जीता चुनाव, भारत ने दी बधाई

माले। मालदीव में राष्ट्रपति चुनाव नतीजों में विपक्षी उम्मीदवार इब्राहीम मुहम्मद सोलीह ने कार्यवाहक राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन पर जीत दर्ज की है। इसके बाद भारत ने इन नतीजों को लेकर मालदीव को बधाई दी है। नतीजों के बाद विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि भारत, मालदीव में शांतिपूर्ण तरीके से हुए चुनावों का स्वागत करता है और चुनाव में इब्रीहम मुहम्मद सोलीह की जीत पर भारत उन्हें शुभकामनाएं देता है।
विदेश मंत्रालय ने आगे कहा है कि मालदीव के यह नतीजे देश में लोकतंत्र की जीत को दर्शाते हैं। अपनी नेबरहूड पॉलिसी के तहत भारत उम्मीद करता है कि भविष्य में दोनों देशों के बीच संबंध और साझेदारी और गहरे होंगे।
खबरों के अनुसार सोमवार अल सुबह आए नतीजों में सोलिह को 58.3 प्रतिशत वोट मिले थे। नतीजे सामने आते ही सोलिह के समर्थक सड़कों पर जश्न मनाते नजर आए। हिंद महासागर के मध्य स्थित इस द्वीपीय राष्ट्र के चुनाव में माना जा रहा था कि अब्दुल्ला यामीन अपनी सत्ता को बनाए रखने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। इसके चलते पूरी दुनिया की निगाहें नतीजों पर लगी थीं। स्वतंत्र पर्यवेक्षकों ने चुनाव प्रक्रिया में पारदर्शिता का अभाव बताया है।
इस चुनाव में मतदान को लेकर जनता में इतना उत्साह था कि शनिवार रात से ही मतदान केंद्रों के बाहर मतदाताओं की लाइन लग गई थीं। रविवार को शाम सात बजे मतदान बंद होने के बाद मतपेटिकाएं गणनास्थल पर पहुंचाई गईं और रात में मतगणना शुरू हुई और सोमवार अल सुबह नतीजे सामने आए।
इससे पहले एक्जिट पोल में संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार को 63 प्रतिशत वोट मिलने की संभावना जताई गई थी। विपक्ष का भी अनुमान है कि उसके प्रत्याशी सोलीह को करीब इतने की वोट मिलेंगे। जबकि यामीन की पार्टी ने कहा है कि उसके प्रभाव वाले इलाकों के वोट खुलने बाकी हैं। वहां के वोटों की गिनती के बाद तस्वीर बदल जाएगी।
मालदीव के चुनाव परिणाम पर भारत और चीन की नजर लगी थी। भारत के दशकों तक असर वाले इस देश में हाल के वर्षों में तेजी से चीन का प्रभाव बढ़ा है। इसके चलते भारतीय कंपनियों को बाहर का रास्ता देखना पड़ा है। यामीन सरकार को चीन समर्थक माना जाता है।
Continue Reading | comments

श्राद्धपक्ष में पितरों की तृप्ति के लिए 5 महायोग, इस बार पूरे 16 दिन का रहेगा पक्षकाल

Sunday, September 23, 2018

उज्जैन। पितरों के प्रति श्रद्धा व्यक्त करने का महापर्व श्राद्ध 24 सितंबर से शुरू होंगे। इस बार महालय श्राद्ध का पर्व काल पूरे 16 दिन का रहेगा। धर्मशास्त्र के जानकारों के अनुसार श्राद्ध पक्ष में पांच महायोग बन रहे हैं। इनमें पितरों की तृप्ति व प्रसन्न्ता के लिए पितृ कर्म करना विशेष शुभ फल प्रदान करेगा।
ज्योतिषाचार्य पं. अमर डब्बावाला के अनुसार श्राद्धपक्ष में 25 सितंबर को प्रतिपदा व 27 को तृतीया तिथि पर सर्वार्थसिद्धि, 29 को पंचमी व 1 अक्टूबर को सप्तमी तिथि पर अमृत सिद्धि तथा 4 अक्टूबर को दशमी तिथि पर गुरु पुष्य नक्षत्र का महासंयोग बन रहा है। इन तिथियों पर पितरों की प्रसन्न्ता व तृप्ति के तीर्थ पर तर्पण, पिंडदान करना विशेष शुभ रहेगा। श्राद्धपक्ष पितरों की तिथि पर पितृकर्म करने से उतरोत्तर उन्न्ति, प्रगति तथा सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। श्राद्ध पक्ष में उज्जयिनी में स्थित गया कोठा, रामघाट तथा सिद्धवट पर पितृकर्म का विशेष महत्व बताया गया है।
श्राद्ध पक्ष में कुतुपकाल का विशेष महत्व है। पं. डब्बावाला के अनुसार श्राद्ध में सुबह 10.50 बजे से दोपहर 12.50 बजे तक के समय को कुतुपकाल कहा गया है। यह समय पितरों के श्राद्ध के लिए विशेष माना गया है।

Continue Reading | comments

गौरतलब है राहुल गांधी ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के कथित बयान को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा था और कहा था कि मोदी और उद्योगपति अनिल अंबानी ने मिलकर भारतीय रक्षा बलों पर 130,000 करोड़ रुपये की 'सर्जिकल स्ट्राइक' की है। उन्होंने यह भी कहा था कि मोदीजी ने हमारे शहीदों के लहू का अपमान किया है। और भारत की आत्मा से विश्वासघात किया है।

नई दिल्‍ली। चीन के झिंजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों पर चीन के कथित अत्‍याचार की विश्वव्यापी आलोचना हो रही है। बावजूद इसके पाकिस्तान ने चीन के शीर्ष राजनयिक के साथ बैठक में इस मुद्दों को उठाने से बच रहा है।झ‍िंजियांग इलाके में मुस्लिमों की एक जाति उइगर रहती है।
चीन सरकार ने आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए इन पर कई प्रकार का प्रत‍िबंध लगा दिया है। अरब न्‍यूज के मुताबि‍क, पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के संघीय मंत्री नूरुल हक कादरी ने बताया क‍ि बैठक में उइगर मुस्लिमों के मामले पर चर्चा नहीं हुई। कादरी ने आगे बताया क‍ि बैठक में इस्‍लाम के स्‍कॉलर के आदान-प्रदान पर बात हुई है जिसको लेकर जल्‍द ही ज्ञापन दिया जाएगा।
अब तक पाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास से इस बैठक से लेकर कोई आध‍िकारिक बयान जारी नहीं क‍िया गया है। बैठक के बारे में बताते हुए मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने अरब न्‍यूज को बताया कि चीन का दुश्‍मन पाकिस्‍तान का दुश्‍मन है। वहीं, आर्थिक गल‍ियारे पर भी अपना रुख स्‍पष्‍ट करते हुए कहा कि इस्‍लामाबाद इस पर कोई समझौता नहीं करेगा।
चीन के पश्चिमी भाग झिंजियांग इलाके में उइगर बड़े पैमाने पर रहते हैं। कई अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने चीन पर आरोप लगाया है कि वे उइगरों पर सामूहिक ज्‍यादत‍ी कर रहे हैं। उन्‍हें शिविरों में भेजा जा रहा है। उनपर धार्मिक प्रतबिंध लगा कर पुन: शिक्षा या प्रवचन से गुजरने के लिए मजबूर किया जा रहा।

Continue Reading | comments

अरुण जेटली ने राहुल गांधी की राष्ट्रभक्ति पर उठाया सवाल, कही यह बात

दिल्ली। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सर्जिकल स्ट्राइक और राफेल को जोड़कर दिए गए बयान पर सख्त एतराज जताया है और कहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक भारत के लिए गौरव का विषय है। अगर आपको उस पर शर्म आती है या आप उसको गलत तरीके से पेश करते हैं तो आपकी राष्ट्रभक्ति पर सवालिया निशान लग जाता है।
गौरतलब है राहुल गांधी ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के कथित बयान को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा था और कहा था कि मोदी और उद्योगपति अनिल अंबानी ने मिलकर भारतीय रक्षा बलों पर 130,000 करोड़ रुपये की 'सर्जिकल स्ट्राइक' की है। उन्होंने यह भी कहा था कि मोदीजी ने हमारे शहीदों के लहू का अपमान किया है। और भारत की आत्मा से विश्वासघात किया है।

Continue Reading | comments

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Film Directory Form

देश

दुनिया

मध्यप्रदेश / छत्तीसगढ़

 
Site Link : Contact Us | sitemap
Copyright © 2013. khabrokakhulasa.com | Latest News in Hindi,Hindi News,News in Hindi - All Rights Reserved
Template Modify by Unreachable
Proudly powered by Blogger